Ticker

6/recent/ticker-posts

छत्तीसगढ़ में कोरोना के 90 नए मामले ,देखे कहाँ कितने मामले ....

रायपुर। छत्तीसगढ़ में शुक्रवार को कोविड-19 के 90 नए मामलों की पुष्टि हुई है जिनमें सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ)का जवान भी शामिल है। राज्य में इसके साथ ही कोरोना वायरस से संक्रमित हुए लोगों की संख्या बढ़कर 863 हो गई है।

राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने शुक्रवार को यहां बताया कि राज्य में आज 90 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई।

अधिकारियों ने बताया कि कोरबा में 40, बलौदाबाजार से 15, बिलासपुर से 14, रायगढ़ से 13, रायपुर से तीन, राजनांदगांव जिले से दो तथा दुर्ग, कोरिया तथा बलरामपुर जिले से एक-एक व्यक्ति के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है।

अधिकारियों ने बताया कि आज जिन लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है उनमें से ज्यादातर प्रवासी मजदूर हैं। यह सभी देश के अलग-अलग राज्यों से यहां पहुंचे थे।

उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमितों में दुर्ग जिले के भिलाई से सीमा सुरक्षा बल का सहायक उप निरीक्षक भी शामिल है। यह अधिकारी इस महीने की एक तारीख को उत्तर प्रदेश से छुट्टी के बाद यहां आया था।

अधिकारियों ने बताया कि बीएसएफ का यह अधिकारी 157 वीं बटालियन कांकेर में पदस्थ है। अधिकारी को तैनाती से पहले भिलाई के पृथकवास केंद्र में रखा गया था। जहां उसमें कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई।

छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले में सीमा सुरक्षा बल के जवान नक्सलियों के खिलाफ अभियान में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

अधिकारियों ने बताया कि शुक्रवार को ही 25 मरीजों को संक्रमण मुक्त होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इनमें एम्स रायपुर से 10 (बलौदाबाजार और बिलासपुर से तीन-तीन, बेमेतरा से दो और बालोद तथा कवर्धा से एक-एक) और कोविड अस्पताल माना रायपुर से 15 (बालोद से पांच और बेमेतरा, बलौदाबाजार, कोरबा, मुंगेली, कांकेर से दो-दो) मरीज शामिल हैं।

उन्होंने बताया कि राज्य में अब तक 863 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है जिनमें से 630 उपचाराधीन हैं तथा दो लोगों की इस बीमारी से मौत हुई है। वहीं 231 लोगों के संक्रमण मुक्त होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी गई है।

उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ में अब तक कोरोना वायरस के कुल 81,773 संभावित व्यक्तियों की पहचान कर नमूनों की जांच की गई है। राज्य में कुल 19,533 पृथकवास केंद्र हैं जिनमें 2,29,070 लोगों को रखा गया है।