Ticker

6/recent/ticker-posts

बोर्ड पर आम जनता से की गई अपील में लिखा है,..7 फीट की दूरी बनाए रखें....लेकिन बोर्ड में ही आम जनता से अपील करने वाली महिलाओं की तस्वीर में उड़ रही सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां..!

"सोच अच्छी" लेकिन विज्ञापन के बोर्ड पर "संदेश गलत"
WEE NEWS बिलासपुर। आप में से लगभग हर कोई नेहरू चौक से इंदिरा सेतु तक जाने वाले रास्ते पर लगे इस बोर्ड को जरूर देखते होंगे। इस भारी-भरकम बोर्ड को सड़क पर ही स्थित आयुर्वेद चिकित्सालय एवं पंचकर्म संस्थान की वेधशाला नामक संस्था के कार्यालय के सामने कोरोना वायरस से बचाव के लिए जनहित में बतौर अपील, लगाया गया है। संस्थान के तीनों बड़े और भव्य विज्ञापन के बोर्ड में कोरोना से बचाय के चार सूत्र लिखे गए। इनमें पहला है, मास्क लगाएं..दूसरा है, बार-बार हाथ धोएं..तीसरा है, 7 फीट की दूरी बनाए रखें.. और चौथा है आयुर्वेद चिकित्सा का उपयोग करें।
आयुर्वेद चिकित्सालय एवं पंचकर्म संस्थान की वेधशाला के नाम से चल रहे इस संस्थान के द्वारा उक्त तीनों बड़े-बड़े बोर्ड कोरोना संक्रमण से बचने के लिए लोगों को सचेत करने हेतु जनहित में निशुल्क बनाए गए हैं। लेकिन इन तीनों ही बोर्ड में लोगों से यह तो अपील की गई है कि 7 फीट की दूरी बनाए रखें। लेकिन उन तीनों ही बोर्ड में ही आम जनता से हाथ जोड़कर अपील करती हुई सात युवतियों की जो तस्वीरें बनाई गई हैं.. उन तस्वीरों की सभी युवतियों ने बकायदा मास्क तो लगा रखा है। लेकिन उन युवतियों की इस तस्वीर में 7 फीट की दूरी या कहे सोशल डिस्टेंसिंग का सरासर उल्लंघन होता दिखाई दे रहा है। बोर्ड की तस्वीर में दिखाई गई , सभी युवतियां तस्वीर में सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाते हुए, एक दूसरे से बिल्कुल सट कर खड़ी हुई हैं। इस तरह जनहित में आम जनता से 7 फीट की दूरी बनाए रखने की अपील करने के लिए बनाए गए भव्य बोर्ड के विज्ञापन में.. खुद अपील करने वाली महिलाओं को द्वारा ही सोशल डिस्टेंसिंग का सरासर उल्लंघन करते दिखाया गया है। हो सकता है यह गलती से हुआ हो। लेकिन इसके बावजूद गलत प्रभाव डालने वाले इस बोर्ड को, बिना गलती सुधारे लगातार.. (वह भी मुख्य मार्ग पर), प्रदर्शित किया जाना समझ से परे है।