Ticker

6/recent/ticker-posts

शहर के प्रेस फोटोग्राफर "भूपेंद्र नारायण नवरंग" (अप्पू) बिलासपुर के लोगों से यह सवाल पूछ रहे हैैं कि...! यह कैसा लॉक डाउन...?

WEE NEWS बिलासपुर। बिलासपुर शहर के जाने-माने प्रेस फोटोग्राफर श्री भूपेंद्र नारायण नवरंग, यह सवाल पूछ रहे हैं...शहर की जनता से..और उसी तरह, पुलिस व प्रशासन से..
सभी जानते हैं कि बिलासपुर शहर में 15 मई तक सख्त लॉकडाउन लागू है... पर, वह सड़कों पर, बाजारों में और दुकानों में तो कहीं नहीं दिखता... सख्त लॉकडाउन सिर्फ  प्रशासन  और पुलिस के दफ्तरों में रखी फाइलों के कागजों पर ही दिख रहा है। शहर की सड़कों पर सुबह से रात तक, जिस तरह की आमदरफ्त बनी हुई है। मोटर गाड़ियां फर्राटे भर रही हैं। नए-नए जवान हो रहे छोकरे एक ही मोटर बाइक में तीन तीन सवारी घूम रहे हैं। उसे देख कर तो कहीं नहीं लगता कि बिलासपुर में इस वक्त लॉकडाउन लागू है। ऐसा नहीं है कि लॉक डाउन की धज्जियां पुलिस की जानकारी के बगैर या उसके उसके पीठ पीछे उड़ाई जा रही हैं। लॉक डाउन की धज्जियां उड़ाने का  यह काम पुलिस के सामने और प्रशासनिक अधिकारियों की नजरों के दायरे में खुलेआम किया जा रहा है। हालांकि, अब सभी लोग इस ओपन सीक्रेट को जान चुके हैं कि ऐसी भीड़भाड़ और सड़कों पर मोटर गाड़ियों के फर्राटों से, सब्जी बाजारों में भीड़ लगाने वाले रैले से कोविड-19 का संक्रमण और तेजी से फैलता है। 🙏ऊपर वाले की मेहरबानी से, दो-तीन दिनों से जिले में कोविड-19 के संक्रमण का ग्राफ कुछ नीचे उतरता दिखाई दे रहा है। वहीं इस महामारी के कारण जिले में होने वाली मौतों की संख्या में भी (थोड़ी ही सही) पर कमी आ रही है। लेकिन लॉकडाउन को लेकर जैसी लापरवाही बिलासपुर में देखने में आ रही हो उससे covid-19 का संक्रमण,कहीं फिर से और न बढ़ जाए, यह डर सताने लगा है। 
बिलासपुर के प्रेस फोटोग्राफर श्री भूपेंद्र नारायण नवरंग (अप्पू) ने आज शहर के विभिन्न क्षेत्रों और ठिकानों से, शहर की सड़कों से, ऐसी तस्वीरें भेजी हैं, जो इस शहर में लॉक डाउन के उड़ाए जा रहे मजाक (आप धज्जियां भी कह सकते हैं) की चुगली कर रही है। ऐसे ढीले-ढाले और मरियल से लॉकडाउन से किसका भला होगा..? शायद किसी का नहीं। और बिलासपुर की जनता का तो हरगिज़ नहीं..!शहर की सड़कों-बाजारों की भीड़भाड़ और सड़कों पर फर्राटे भरतीं गाड़ियों को देख कर यह सवाल मन में खड़ा हो रहा है कि बिलासपुर में यह कैसा लॉकडाउन है..? जिसमें और सब कुछ तो है लेकिन सिर्फ लॉकडाउन ही दूर-दूर तक, कहीं नजर नहीं आता..!
और इसे.. आने वाले दिनों में बिलासपुर के...इस महामारी से बचने के मामले में.. अच्छा शगुन (लक्षण)नहीं माना जा सकता..!