कोरोना के बाद इस वर्ष नवरात्र में महामाया देवी के दर्शन कर सकेंगे श्रद्धालु

बिलासपुर, 26 सितंबर । आस्था के सबसे बड़े महा पर्व शारदीय नवरात्र की तैयारी आरंभ हो चुकी है। अंचल के सबसे प्रतिष्ठित और आस्था के सबसे बड़े केंद्र रतनपुर स्थित मां महामाया मंदिर में भी शारदीय नवरात्र को लेकर तैयारियां आरंभ कर दी गई है। हालांकि अब तक शासन की ओर से कोई स्पष्ट दिशानिर्देश प्राप्त नहीं हुए है। पिछले करीब डेढ़ वर्ष से कोविड- 19 के कारण शारदीय और चैत्र नवरात्र पर रतनपुर मां महामाया मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए बंद रहे हैं। जिसके बाद उम्मीद जताई जा रही है कि इस बार पूर्व की भांति मां महामाया मंदिर में पूजा अर्चना दर्शन का लाभ श्रद्धालु उठा पाएंगे। हालांकि व्यवस्थाओं को लेकर जितनी जिम्मेदारी मंदिर ट्रस्ट की होती है उतनी ही भागीदारी जिला और पुलिस प्रशासन की भी है, इन्ही व्यवस्थाओं को सुनिश्चित करने के लिए रविवार को मंदिर ट्रस्ट की अहम बैठक ली गई, जिसमें कई मुद्दों पर चर्चा की गई । प्रदेश के सभी बड़े मंदिरों को वर्तमान में मिली छूट को आधार बनाकर यहां व्यवस्थाओं की रूपरेखा तय की गई। बैठक के पश्चात ट्रस्ट के अध्यक्ष आशीष सिंह ठाकुर ने उम्मीद जताई कि इस वर्ष श्रद्धालु मंदिर में सामान्य रूप से दर्शन कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि पिछले तीन नवरात्र से श्रद्धालु केवल माता के स्वरूप के ऑनलाइन दर्शन ही कर पा रहे हैं लेकिन इस बार अगर सब कुछ सामान्य रहा तो श्रद्धालु मंदिर पहुंचकर पूर्व की भांति मां के दर्शन कर पाएंगे। हालांकि कोरोना का प्रभाव अभी पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है इसलिए दर्शन की प्रक्रिया क्या होगी इसे लेकर अंतिम निर्णय नहीं लिया जा सका है। श्री ठाकुर ने कहा कि जल्द ही जिला प्रशासन के साथ बैठक कर इस संबंध में स्पष्ट दिशा-निर्देश प्राप्त किए जाएंगे जिसके बाद ही अंतिम निर्णय लेना संभव होगा। हालांकि उन्होंने कहा कि पहले की भांति इस वर्ष भी मां महामाया मंदिर में करीब 25 हजार मनोकामना ज्योति कलश प्रज्ज्वलित किए जाएंगे, जिसकी पूर्ण तैयारी कर ली गई है। संभव है कि इस वर्ष सीमित संख्या में सामाजिक दूरी नियम का पालन करते हुए श्रद्धालुओं को मंदिर में प्रवेश दिया जाए।
Previous Post Next Post