छत्तीसगढ़ शासन के रोका छेका गोधन न्याय योजना, गोठान निर्माण जैसे महत्वाकांक्षी योजना को पलीता लगाने में लगे हुए सीएमओ और चुने गए जनप्रतिनिधि कहते है हमसे पूछ कर लगाए हों क्या फसल अपनी समस्याओं का निपटारा खुद करो

WEE NEWS बिलासपुर मस्तूरी नगर पंचायत में इन दिनों  विकास कार्यो के साथ आम लोगो की समस्याओं का निदान न तो नगर पंचायत में बैठे अधिकारी सुन रहे है न ही चुने गए जनप्रतिनिधियों के पास समस्याओं का हल नही मिलता उल्टे मुह जवाब देकर चुकता कर रहे किसानों को सीएमओ ने तीन दिनों में बैठक कर समस्यों का हल निकालने के लिए बैठक किया जाएगा परन्तु समस्या और बढ़ती जा रही है जिससे आक्रोशित होकर किसान मस्तूरी पहुच कर अपनी दुखड़ा sdm को सुनाई जिससे एक उम्मीद जगी हुई है 
नगर पंचायत के सीएमओ एवं जनप्रतिनिधियों को आवेदन दिया गया था कि मल्हार क्षेत्र के खेतो में लगे धान व अन्य फसलो को मवेशी भारी नुकसान पहुंचा रहे है, जिसके कारण किसानो को आर्थिक क्षति हो रहा है किसान चिंतित हैं।विगत दिनों 22 सितम्बर को  50 से अधिक  किसान यहां के मुख्य नगर पालिका अधिकारी से मिलकर समस्याओ को  अवगत कराये थे और लिखित आवेदन दिया गया था। सीएमओ ने किसानों से आवेदन लेते हुए कहा कि कल ही यहां के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, पार्षद व एल्डरमेन को इसकी सूचना देकर बैठक करता हूं।  हम किसानो ने सीएमओ  के विश्वास से आवेदन देकर लौट आये, परन्तु आज तीन दिन बीत जाने के बाद भी किसी प्रकार की बैठक नगर पंचायत में नहीं हुई है।  शासन ने किसानो को लेकर संचालित हो रही विभिन्न योजनाओं के तहत् इस विकराल समस्या के समाधान हेतु आवश्यक कार्यवाही कर किसानो की फसल बचा लें। इसके पूर्व मवेशियों के संबंध में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष व जनप्रतिनिधियों ने .किसनो की कई बार बैठक बुलाई थी जिसमें किसानों को ही अपनी फसल बचाने उपाय  करने की सलाह दिया गया था जो कि सरासर गलत है। छत्तीसगढ़ शासन के रोका छेका गोधन न्याय योजना, गोठान निर्माण जैसे महत्वाकांक्षी योजना होने के बावजूद भी हा के किसानों को अपनी फसलें मवेशियों से बचाने शासन-प्रशासन के सामने गिडगिडाना पड़ रहा है।
Previous Post Next Post