दुष्कर्म के मामलों में छत्तीसगढ़ टॉप पर उत्तर प्रदेश बिहार को पछाड़ा ,नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो की रिपोर्ट में हुआ खुलासा

रायपुर। छत्तीसगढ़ में महिलाओं के साथ यौन उत्पीडऩ के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के द्वारा किए गए विश्लेषण में यह तथ्य सामने आया है कि दुष्कर्म के मामलों में बिहार से आगे छत्तीसगढ़ निकल चुका है। NCRB के द्वारा जारी रिपोर्ट के मुताबिक दुराचार के मामलों में छत्तीसगढ़ का आठवां स्थान है।

गौरतलब है कि प्रदेश में 2019 में दुष्कर्म के 1036 मामले दर्ज किए गए हैं, जबकि 2020 में 1210 मामले दर्ज हुए हैं, इन दो सालों में बिहार में 730 और 806 मामले दर्ज हुए। छत्तीसगढ़ में साल 2020 में हर दिन तकरीबन 3 दुष्कर्म की वारदातें हो रही हैं।

आबादी के अनुसार दुराचार के मामले में छत्तीसगढ़ दूसरे स्थान पर

आबादी के अनुसार नजर डाली जाए तो प्रति लाख जनसंख्या में 12.2 महिलाओं के साथ दुराचार के मामले में छत्तीसगढ़ देश में दूसरे स्थान पर है। ताजा रिपोर्ट के आकड़ों के अनुसार देश में महिला यौन उत्पीडऩ के कुल 130195 मामले दर्ज किए गए हैं, जिसमें 6.2 प्रतिशत के साथ प्रदेश में 3500 मामले दर्ज किए गए हैं। जबकि दुष्कर्म के प्रयास के कुल 19 मामले दर्ज किए गए हैं।

छत्तीसगढ़ में लगातार बढ़ रहे मामले

NCRB 2020 के रिकॉर्ड के मुताबिक प्रदेश में अलग-अलग धाराओं में दर्ज अपराध में भी इजाफा हुआ है। छत्तीसगढ़ में दर्ज सभी तरह के आपराधिक मामलों पर गौर करें तो साल 2018 में 98233, साल 2019 में 96561, साल 2020 में 103173 केस दर्ज किए गए हैं। साल 2020 का आंकड़ा बढ़े हुए अपराध की संख्या को साफ बता रहा है।

छत्तीसगढ़ को जंगलराज बना दिया : रमन सिंह

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने इस मामले में ट्वीट किया है कि- राहुल गांधी जी कांग्रेस की पूरी बारात आपको प्रदेश का विकास देखने का न्योता देने गई थी। देखिए! कैसे छत्तीसगढ़ को जंगलराज बना दिया है। हत्या, डकैती और बेटियों के साथ दुष्कर्म की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं। अपराधियों को संरक्षण मिला हुआ है। यही विकास हुआ है बस।



Previous Post Next Post