chhattisgarh - एसआईटी जांच में दखल न दें सीएम भूपेश - डॉ रमन

रायपुर: भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और Chhattisgarh पूर्व सीएम डॉ रमन सिंह ने भाजपा कार्यालय एकात्म परिसर में प्रेस कॉन्फ्रेंस की. प्रेस को संबोधित करते हुए रमन सिंह ने पीडीएस घोटाले और मनी लॉन्ड्रिंग (money-laundering) सहित अन्य मुद्दों को लेकर भूपेश सरकार पर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि नागरिक आपूर्ति निगम के पूर्व एमडी और अध्यक्ष को बचाने का सरकार ने गलत निर्णय लिया।

रमन सिंह ने एक अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर का हवाला देते हुए कहा ईडी ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के ऊपर यह आरोप सुप्रीम कोर्ट में लगाया है कि पीडीएस के मामले में मनी लॉन्ड्रिंग पहलु की जांच को प्रभावित करने के लिए भूपेश बघेल एसआईटी के सदस्य और एक वरिष्ठ कानूनी अधिकारी ने 2 आईएएस अधिकारी को बचाने के लिए केस को कमजोर करने का षड्यंत्र किया है।

पूर्व सीएम डॉ.रमन सिंह ने कहा जिस बात को लगातार ढाई साल से विधानसभा के अंदर और विधानसभा के बाहर हम लोग लगातार बोलते रहे। छत्तीसगढ़ के पीडीएस स्कैम और मनी लॉन्ड्रिंग की जांच के विषय को लेकर उठाते रहे। सरकार की भूमिका पर शंका जाहिर करते रहे और लगातार या बोलते रहे कि सरकार ने मुख्य आरोपी नागरिक आपूर्ति निगम के पूर्व एमडी और उसके पूर्व अध्यक्ष को बचाने के दृष्टि से इस सरकार ने गलत निर्णय लिया है। उसके बाद एसआईटी का गठन किया। एसआईटी का गठन करने के बाद जांच को प्रभावित करने के लिए इन लोगों ने पूरी प्रक्रिया अपनाई और जांच को प्रभावित करने का तरीका अपनाया।

इसके साथ ही उन्होंने पंजाब में नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफा देने पर कहा कि पंजाब डोल रहा है और छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री बदलने को लेकर कहा कि प्रदेश में असर अभी ढाई-ढाई साल वाला दिख रहा है।

छत्तीसगढ़ सरकार को संविदा सरकार बताते हुए उन्होंने कहा कि भूपेश बघेल संविदा मुख्यमंत्री इसलिए है क्योंकि एक बेटी की शादी की तैयारी में लगा हुआ है और दूसरा शपथ ग्रहण के तैयारी में लगा हुआ है। अनिश्चितता की स्थिति में छत्तीसगढ़ पूरी तरह से फंसा हुआ है।
Previous Post Next Post