आर एस एस के 96 वें स्थापना दिवस पर सिहोरा नगर में निकला पथ संचलन

परम पवित्र भगवा ध्वज हिंदू राष्ट्र का प्रतीक

पुष्प वर्षा कर स्वयं सेवकों का किया स्वागत

सिहोरा । परम पवित्र भगवा ध्वज देश के सम्मान और अस्मिता का प्रतीक है। देश की रक्षा के लिए स्वयंसेवकों ने हर समय और काल में अपना बलिदान दिया। आरएसएस की स्थापना का ध्येय रक्षा कर रहा है। इसके लिए हर स्वयंसेवक को तैयार रहना होगा। परम पवित्र भगवा ध्वज हिंदू राष्ट्र का प्रतीक है। संघ को समझने के लिए संघ की शाखाओं में निरंतर जाना पड़ेगा। संघ अपना कार्य निरंतर करता है यही उसकी विशेषता है हम उसके सिर्फ स्वयं सेवक हैं। राष्ट्र निर्माण में हर स्वयंसेवक का योगदान जरूरी है तभी राष्ट्र का निर्माण होगा। बौद्धिक में मुख्य वक्ता गोपाल सिंह ठाकुर ने स्वयंसेवकों से कही। बौद्धिक प्रमुख जय सिंह, जिला कार्यवाह विनोद खत्री, नगर कार्यवाह रामजी गुप्ता, पूर्व प्रचारक प्रमोद साहू, राकेश मालवीय, किशन साहू, हरि साहू, कढोरी लाल साहू, जगदीश प्यासी बौद्धिक में शामिल रहे।

बारी बहु स्टेडियम से शुरू हुआ पथ संचलन

 आरएसएस के 96वें स्थापना दिवस (विजयादशमी पर्व) पर रविवार को सिहोरा नगर में स्वयं सेवकों का पथ संचलन निकला। बारी बहू स्टेडियम खितौला में एकत्रीकरण के बाद खितौला बाजार, स्टेशन तिराहा, यूनियन बैंक तिराहा होते हुए मस्जिद रोड, खितौला रेलवे फाटक, वनविभाग नाका महाकाली मंदिर खितौला तिराहा होते हुए बारी बहू स्टेडियम में पथ संचलन का समापन हुआ।

जगह-जगह पुष्प वर्षा कर स्वयंसेवकों का स्वागत

 नगर के विभिन्न मार्गो में कदमताल करते स्वयंसेवक पथ संचलन के लिए निकले। एक पंक्ति में चल रहे स्वयंसेवकों का जगह जगह पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। पथ संचलन में राजा मोर, शिशिर पांडे, प्रशांत परोहा, राजमणि बघेल, अनुपम सराफ, दिलीप सोनी, आतिश खरे, बालमुकुंद पटेल, वीरेंद्र पटेल, विनोद गर्ग के साथ बड़ी संख्या में स्वयंसेवक शामिल थे।
Previous Post Next Post