Ticker

6/recent/ticker-posts

गोसलपुर में कन्या हाईस्कूल न होने से सैकड़ों छात्राए उच्च शिक्षासे वंचित

गोसलपुर में कन्या हाईस्कूल न होने से सैकड़ों छात्राए उच्च शिक्षा
से वंचित
स्थापना के सात दशक बाद नहीं हुआ उन्नयन
कुशल नेतृत्व क्षमता की कमी
गोसलपुर...... सिहोरा विधानसभा के अंतर्गत गोसलपुर कस्बा बस्ती में संचालित कन्या हाई स्कूल ना होने के कारण गोसलपुर गांधीग्राम समेत चार दर्जन गांव की सैकड़ों छात्राएं उच्च शिक्षा से वंचित रह जाती है
क्षेत्रीय जन श्यामलाल सराफ जीवनसिंह ठाकुर आरपी पाटसकर नोखेलाल पटेल ने बताया की गोसलपुर में कन्या हाई स्कूल प्रारंभ करने हेतु क्षेत्रीय विधायक के माध्यम से मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री से भेंट कर यह लंबे अरसे से की जा रही मांग को पूरा कराया जावेगा
गौरतलब है की गोसलपुर सहित पांच कन्या हाई स्कूल की स्थापना 1952 में की गई थी इसके साथ ही मझौली,उमरियापान, बहोरीबंद,मझंगवा गांव की कन्या शालाओं को हाई स्कूल के रूप में उन्नयन कर दिया गया
लेकिन दुर्भाग्य कहे या राजनैतिक इच्छाशक्ति की कमी के चलते 69 वर्ष बाद भी गोसलपुर को
कन्या हाई स्कूल का दर्जा प्राप्त नहीं हो सका
इस कारण क्षेत्र की गोसलपुर संकुल की 17 माध्यमिक शाला एवं गांधीग्राम संकुल की 9 माध्यमिक शालाओं से प्रतिवर्ष उत्तीर्ण  होने वाली लगभग 800 छात्राएं उच्च शिक्षा से वंचित रह
जाती है
आठवीं कक्षा उत्तीर्ण होने के बाद छात्राएं गोसलपुर गांधीग्राम सिहोरा मजबूरी में पढ़ने जाती
है इस संबंध में ग्रहणी श्रीमती भावना चौबे गीतिका चौहान अर्चना सिंह राजपूत ज्योति दाहिया चंदा पटेल अर्चना सराफ का कहना है की बच्चियों की शिक्षा हेतु स्थित कन्या शाला को हाई स्कूल के रूप में उन्नयन किया जाना छात्राओं के हित में अति आवश्यक है
ग्राम के वयोवृद्ध अच्छेलाल राजभर का कहना है की कन्या हाईस्कूल का उन्नयन न हो पाना जरूर राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी को दर्शाता है
आगामी सत्र से गोसलपुर में संचालित कन्या शाला को कन्या हाई स्कूल के रूप में उन्नयन करने हेतु ग्रामवासियों द्वारा
आंदोलत्मक योजनाएं तैयार की जा रही है अभी हाल ही में एक लिखित ज्ञापन जिला कलेक्टर को दिया जावेगा
हस्ताक्षर अभियान पोस्टकार्ड
अभियान चलाया जागरूकता कार्यक्रम मानव श्रृंखला का आयोजन किया जाएगा
इन अभियानों के माध्यम से शासन प्रशासन तक कन्या स्कूल के उन्नयन की आवाज पहुंचाई जावेगी लोगों ने बताया की अगर कन्या मिडिल स्कूल को हाई स्कूल में उन्नयन किया जाता है तो भवन की उपलब्धता है जिसमें कक्षाएं संचालित हो सकती है
***इनका कहना है ..ग्रामीण परिवेश में लड़कियों की सुरक्षा को अधिक तवज्जो दी जानी चाहिए कई परिवार तो सुरक्षा का बहाना बनाकर ही छात्राओं को उच्च शिक्षा से वंचित कर देते है इसी को देखते हुए मिडिल स्कूल का हाई स्कूल में उन्नयन होना बालिका शिक्षा हित में होगा
श्रीमती उषा तिवारी
सेवानिवृत्त शिक्षका

          लगातार बालिकाओं के प्रति हिंसा और अपराध की घटनाओं को देखते हुए उनकी सुरक्षा अभिभावकों के लिए एक महत्वपूर्ण विषय है छात्राये यदि समूहों में पैदल या साइकिल से विद्यालय आती जाती है तो वह सुरक्षा की दृष्टि से अच्छा रहता है
छात्राओं मे सुरक्षा का भाव उत्पन्न
होता है
     डॉ.हर्षिका उपाध्याय
       
हमें ग्रामीणों द्वारा कन्या शाला के उन्नयन की मांग का पत्र मिलता है तो हम तत्काल वरिष्ठ कार्यालय को पत्राचार करेंगे
अशोक उपाध्याय
विकासखंड शिक्षा अधिकारी
सिहोरा