Ticker

6/recent/ticker-posts

घोराकोनी पहुंच मार्ग के हाल बेहाल,

घोराकोनी पहुंच मार्ग के हाल बेहाल,
जवाबदार अधिकारी नहीं दे रहे ध्यान 
पैच वर्क करना भूले ठेकेदार, जगह-जगह आ गई दरारें

सिहोरा

 देश के तत्कालीन प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी बाजपेई द्वारा ग्रामीण इलाकों में 500 या इससे अधिक आबादी वाले सड़क संपर्क से वंचित गांवों को ग्रामीण क्षेत्रों की संपर्क बिहीन बसाहटों को एकल बारहमासी सड़कों से जोड़ने के लिए प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की शुरुआत की गई थी। इस योजना को लागू करने की जिम्मेदारी ग्रामीण विकास मंत्रालय एवं राज्य सरकारों की है। योजना के तहत बनी सड़क लंबे समय तक टिकाऊ बनी रहें यह सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक ठेकेदार को विभाग द्वारा शर्तों का पालन करना होता है। जैसे की नियमित मेंटेनेंस, पाच साल तक सड़क की मरम्मत करना जिसका बकायदा ठेकेदार को भुगतान किया जाता
है।
सिहोरा विकासखंड के अंतर्गत प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना विभाग द्वारा लोगों के आवागमन के लिए बनाई गई सड़कें विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों की अनदेखी के कारण एवं संबंधित निर्माण एजेंसी ठेकेदारों की लापरवाही के चलते जर्जर स्थिति में अपनी हकीकत बयां कर रही हैं। खिन्नी रोड से घोराकोनी पहुंच मार्ग नवंबर 2015 मे निर्मित हुआ था। इस सड़क का निर्माण प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत किया गया था। कृषि बाहुल्य क्षेत्र की यह सड़क में बड़े लंबे समय से संबंधित ठेकेदार द्वारा मरम्मत कार्य न कराने से सड़क पर जगह-जगह गड्ढे हो गये है। सड़क कई जगह उखड़ चुकी है जिससे लोगों को आवागमन में परेशानी का सामना करना पड़ता है। ग्राम के संतराम पालीवाल,सतीष बर्मन, अनिल दाहिया, अंबिका बर्मन, बृजेश तिवारी, दयाराम कोल, जीतू शर्मा, तीरथ दाहिया ने बताया की यह सड़क देखरेख के अभाव में जर्जर स्थिति में हो चुकी है। ग्रामीणों ने अनेकों बार इस सड़क की मरम्मत के लिए प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अधिकारियों एवं क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों को भी अवगत कराया, परंतु अभी तक इस सड़क की जर्जर हालत को नहीं सुधारा गया लोगों ने शीघ्र ही इस दिशा में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के वरिष्ठ अधिकारियों से ध्यान देने की मांग की है।

भारी वाहनों के कारण सड़के हो रही खराब 

ज्ञात हो की गोसलपुर क्षेत्र से लगी हुई बरनू चौराहा से पौड़ी अगरिया मार्ग, स्टेशन तिराहा से हृदयनगर मार्ग, धरमपुरा मार्ग, जुझारी से बंधा रमखिरिया मार्ग, गोसलपुर से खजुरी भदम घुटना मार्ग, कछपुरा खिन्नी तिराहा से खिन्नी कैथरा मार्ग यह सब सड़कें प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना विभाग के द्वारा बनाई गई थी। परंतु गोसलपुर क्षेत्र में खनिज की खदान स्थित होने के कारण एवं रेत के उत्खनन परिवहन के कारण इन सड़कों से 70 से 80 टन ओवरलोड बड़े वाहन दिन रात गुजरते है, जबकि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना सड़क की क्षमता 8 टन की होती है क्षमता से अधिक ओवरलोड चलने वाले बड़े वाहनों के कारण सड़कों का मूल स्वरूप खत्म हो जाता है और सड़क गड्ढों में तब्दील हो जाती है। ग्राम के प्रबुद्ध नागरिकों ने इस दिशा में प्रशासन से सख्त कदम उठाने की मांग की है।