समाज से बहिष्कार करने किया जा रहा था प्रयास, सरपंच की कर दी हत्या

समाज से बहिष्कार करने किया जा रहा था प्रयास, सरपंच की कर दी हत्या

- समाजिक पंचायत के विवाद के चलते दिया वारदात को अंजाम

सिहोरा

सिहोरा के ग्राम खलरी के सरपंच राजेश पटेल की हत्या और उसके भाई पर जय कुमार प्राणघातक हमला करने वाले तीन आरोपी अवधेश (65), शिवकुमार (53) और मथुरा बर्मन उर्फ रज्जू को सिहोरा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों ने हत्या कबूल करते हुए पुलिस को बताया कि उनके सामाजिक बहिष्कार का प्रयास किया जा रहा था, जिसके चलते सरपंच और आरोपी परिवार के बीच लंबे समय से तनाव चल रहा था। इसी के चलते आरोपियों ने वारदात को अंजाम दिया। सिहोरा एसडीओपी श्रुतकीर्ति सोमवंशी ने बताया कि मामले में फरार अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापामारी की जा रही है। इधर, सोमवार को पीएम के बाद सरपंच का शव परिजनों को सौंपा गया। भारी पुलिस बल की मौजूदगी में उसका अंतिम संस्कार किया गया।
गुप्ती, रॉड और लाठियों से वार

पुलिस ने बताया कि ग्राम खलरी के सरपंच राजेश पटेल (46) और उसके भाई जय कुमार पटेल (45) का गांव के श्रीराम बर्मन, शंकर बर्मन, रज्जू बर्मन, अभिषेक बर्मन और नम्मू बर्मन विवाद चल रहा था। लाठियों, गुप्ती और रॉड से लैस होकर श्रीराम बर्मन, शंकर बर्मन, रज्जू बर्मन, अभिषेक बर्मन और अवधेश बर्मन रविवार रात लगभग साढ़े सात बजे राजेश के घर के पास पहुंचे। जहां आरोपियों ने राजेश और उसके भाई जय कुमार पर लाठियों और रॉड से जमकर वार कर दिए। दोनों को अस्पताल ले जाया गया, जहां राजेश को मृत घोषित कर दिया गया।
भतीजी ने देखी पूरी वारदात, लिखाई रिपोर्ट

जय कुमार और सरपंच राजेश पटेल पर जब आरोपियों ने हमला किया, उस वक्त जय कुमार की बेटी नंदनी पटेल (21) घर की छत पर थी। उसने पूरी वारदात देखी। इतना ही नहीं नंदनी की ही रिपोर्ट पर पुलिस ने आरोपियों पर हत्या और हत्या के प्रयास का प्रकरण दर्ज किया।
Previous Post Next Post