अफसर खा गए फण्ड का पैसा, रिटायर मृत कर्मचारी के अनाथ बच्चे दर- दर भटक रहे

अफसर खा गए फण्ड का पैसा, रिटायर मृत कर्मचारी के अनाथ बच्चे  दर- दर  भटक रहे
   सिहोरा
मध्य प्रदेश अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा के संरक्षक योगेन्द्र दुबे  ने  कार्यभारित स्थापना  के  कर्मचारियों  की भविष्य निधि राशि अफसरों द्वारा डकार जाने  का आरोप लगाया है। अफसरों के निकम्मेपन के कारण विभागीय भविष्य निधि ( डी पी एफ) का पैसा कर्मचारियों के खातों से गायब है। समयपाल ,चौकीदार , खानसामा,वाहन चालक , भृत्य, हेल्पर, माली, पम्पअटेंडेंट ,कैनाल कर्मी की 25 से 30 वर्षों की नोकरी के मासिक वेतन से काटी गई  फण्ड की राशि कार्यालय प्रमुख खा गए है। इस लिए कर्मचारियों की लाखों रुपये की राशि कोस लेखा एवं पेंशन की पर्ची से रुपये गायब है।
          कंप्यूटर में लेखा पर्ची में जमा पैसे ही कर्मचारियों को रिटायर होने या मृत होने पर उनके आश्रितों को दी जाती है। राशि जमा न होने पर भुगतान नहीं किया जाता, अपने ही पैसों के लिए कर्मचारी कार्यालयों के चक्कर काट रहे हैं। अफसर डी पी एफ को जी पी एफ में बदलने से राशि गायब होना बता रहे हैं।
                 मध्य प्रदेश अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा के  जिलाध्यक्ष अटल उपाध्याय, संजय गुजराल, रविकांत  दहायत,अजय दुबे,   एस. के. वांदिल, सिहोरा तहसील अध्यक्ष योगेन्द्र मिश्रा, धीरेंद्र सिंह ,विश्वदीप पटेरिया ,संतोष मिश्रा, नरेश शुक्ला, मुकेश चतुर्वेदी,योगेश चौधरी,देव दोनेरिया ,प्रसांत सोधिया,,प्रदीप पटैल , मुकेश मरकाम, नरेंद्र सेन, नेतराम झारिया, आशीष उपाध्याय,संदीप नेमा, रजनीश पांडेय,शहजाद सिंह द्विवेदी  ने  कर्मचारियों की भविष्य निधि की राशि कर्मचारियों के खातों में  तत्काल जमा करने की मांग की है। मोर्चा पदाधिकारियों ने रिटायर हो चुके कर्मचारियों को जल्द एरियर्स बनाकर देने की माँग की है। गायब राशि खातों में जमा नहीं कि गई तो संबंधित कार्यालय प्रमुखों के कार्यालय के सामने प्रदर्शन किया जावेगा।
Previous Post Next Post