जिस गोदाम में अवैध धान पकड़ी उसे प्रशासन ने आज तक नहीं किया सील

जिस गोदाम में अवैध धान पकड़ी उसे प्रशासन ने आज तक नहीं किया सील

भाजपा के पूर्व विधायक दिलीप दुबे ने प्रशासन की कार्रवाई पर उठाए सवाल, बोले सप्ताह भर बाद भी प्रशासन मामले की नहीं पूरी कर पाया जांच, किसानों का हक मार रहे बिचौलिए, कलेक्टर के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा

सिहोरा
मझौली तहसील के धनगवां स्थित शासकीय किसान सेवा केंद्र में 21 नवंबर को पकड़ी गई दो ट्रक धान के मामले में प्रशासन द्वारा कार्रवाई नहीं किए जाने को लेकर भाजपा के पूर्व विधायक दिलीप दुबे ने प्रशासन पर हीला हवाली का आरोप लगाया है। पूर्व विधायक ने आरोप लगाया कि जिस सरकारी गोदाम से अवैध धान प्रशासन ने पकड़ी उसे एक सप्ताह बाद भी सील नहीं किया गया। किसानों का हक मारने वाले बिचौलिए के इतने बड़े मामले में प्रशासन सप्ताह भर बाद सिर्फ जांच जांच अधिकारी की नियुक्ति और जांच के बिंदु तय कर पाया है जांच के नाम पर कुछ नहीं किया गया। पूरे मामले में प्रशासन सिर्फ लीपापोती करने में जुटा है। पूर्व विधायक ने कलेक्टर के नाम पूरा एसडीएम को ज्ञापन सौंप कर पूरे मामले की निष्पक्ष जांच के साथ धान को उसी गोदाम में रखवा कर विधिवत शिकायतकर्ता अन्य किसानों के समक्ष सील करने की मांग की है।

यह है पूरा मामला

मझौली तहसील के ग्राम धनगवां स्थित शासकीय किसान सेवा केंद्र में उत्तर प्रदेश एवं पंजाब सहित अन्य राज्यों से धान को अवैध रूप से लाकर बिचौलियों द्वारा भंडारित किया गया था। इसकी सूचना लगने पर भाजपा के पूर्व विधायक दिलीप दुबे ने मामले की जानकारी कलेक्टर जबलपुर एसडीएम सिहोरा को फोन और व्हाट्सएप पर दी। स्थानीय किसानों ने उन्हें फोन पर सूचना दी कि चोरी छुपे विनय असाटी द्वारा ट्रक लगा कर उक्त धान को कहीं बाहर भेजा जा रहा है जिसमें 8 से 10 गाड़ियां रवाना हो चुकी है। इसके बाद वे स्वयं स्थानीय किसानों के साथ मौके पर पहुंचे तो वहां पर 15-20 ट्रक खड़े थे जिसमें धड़ल्ले से उक्त धान की बोरियां लोड की जा रही थीं। मेरे वहां पहुंचने पर विनय असाटी ने गाड़ियां जल्दी-जल्दी रवाना कर दी किसानों द्वारा किसी तरह तीन गाड़ियां रोक ली गई जिसमें दो ट्रक एवं एक मिनी ट्रक शामिल था। विनय असाटी किसानों और पूर्व विधायक से तू तू मैं मैं करने लगा। मौके पर न तो वेयरहाउस का कर्मचारी उपस्थित था और न ही कोई जिम्मेदार अधिकारी। सूचना देने के बाद मौके पर पूरा तहसीलदार राकेश चौरसिया नायब तहसीलदार राहुल मेश्राम मौके पर पहुंचे। प्रशासनिक अधिकारियों ने मौके पर गोदाम की जांच की। जहां गोदाम में भारी मात्रा में अवैध धान रखी थी। मौके पर पंचनामा तैयार कर धान से लदे दो ट्रकों को जप्त कर सिहोरा थाने में खड़ा करवा दिया गया।

सप्ताह भर बाद सिर्फ जांच टीम गठित, जांच का अता पता नहीं
पूर्व विधायक ने आरोप लगाया कि प्रशासन ने पूरी कार्रवाई 21 नवंबर को की थी इसके बाद अभी तक सिर्फ पूरे मामले की जांच के नाम पर जांच अधिकारियों की नियुक्ति भर कर दी गई। लेकिन जांच का अता पता नहीं है पूरे मामले में प्रशासन लीपापोती में जुटा हुआ है। पूर्व विधायक ने अपने समर्थकों के साथ एसडीएम आशीष पांडे को ज्ञापन सौंपते हुए जल्द से जल्द पूरे मामले की जांच करने और बिचौलियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की इस मामले में किसी भी तरह की ढिलाई होने पर उन्होंने उग्र आंदोलन की चेतावनी दी।

क्या कहते हैं जिम्मेदार
मझौली तहसील के धनगवां किसान सेवा केंद्र में रखे धान के स्टॉक की जांच चल रही है इसके लिए टीम भी गठित कर दी गई है। जांच दल की रिपोर्ट आने के बाद पूरे मामले में विधि अनुसार कार्यवाही की जाएगी।

आशीष पांडे, एसडीएम सिहोरा
Previous Post Next Post