Ticker

6/recent/ticker-posts

एसडीएम सिहोरा ने पहली पेशी में ही पारित किया क्रेता का नाम भू-अभिलेख में दर्ज करने का आदेश

एसडीएम सिहोरा ने पहली पेशी में ही पारित किया  क्रेता का नाम भू-अभिलेख में दर्ज करने का आदेश

महिला को पहली ही पेशी में मिली बड़ी राहत नाबालिक बच्चों के नाम से खरीदी थी जमीन

सिहोरा

अनुविभागीय राजस्व अधिकारी सिहोरा आशीष पांडे ने भूमि विवाद संबंधी अपील के एक प्रकरण में पहली सुनवाई के दौरान ही फैसला देते हुए राजस्व अभिलेखों में क्रेता का नाम दर्ज करने के आदेश जारी किया है। 
न्यायालय अनुविभागीय राजस्व अधिकारी सिहोरा से प्रकरण के बारे में प्राप्त जानकारी के अनुसार दर्शनी टोला तहसील मझौली निवासी शांतिबाई कलार पति सुशील कुमार 09 जून 2011 को श्रीमती सविता बाई उर्फ सावित्री बाई से रजिस्टर्ड बैनामा के द्वारा 8 हजार रुपये में राजस्व निरीक्षक मंडल पौंडा की खसरा नंबर 972/2 की 0.20 हेक्टयर कृषि भूमि अपने नाबालिग पुत्रों शिवम  एवं सत्यम  के नाम पर क्रय की थी। शांतिबाई कलार ने रजिस्टर्ड बैनामा पत्र के आधार पर नायब तहसीलदार मझौली के समक्ष आवेदन पत्र प्रस्तुत कर भू-अभिलेख में क्रेता का नाम दर्ज करने का आवेदन दिया था। 

नायब तहसीलदार मझौली ने कर दिया था प्रकरण को खारिज

जिसे नायब तहसीलदार मझौली द्वारा विधि विरूद्ध आदेश पारित कर 7 सितम्बर 2021 को खारिज कर दिया गया था। नायब तहसीलदार मझौली के आदेश के विरूद्ध शांतिबाई द्वारा अनुविभागीय राजस्व अधिकारी न्यायालय में अपील प्रस्तुत की गई। अनुविभागीय राजस्व अधिकारी न को इस प्रकरण की सुनवाई तय की तथा दोनों पक्षों के बीच किसी तरह का कोई विवाद नहीं पाये जाने पर पहली पेशी में ही नायब तहसीलदार न्यायालय मझौली के आदेश को निरस्त कर रजिस्टर्ड विक्रय पत्र के अनुसार भूमि शांतिबाई के पुत्रों शिवम  एवं सत्यम  का भू-अभिलेख के नाम दर्ज करने का आदेश पारित कर अभिलेख अद्यतन करने के निर्णय दिये।