शादी का झांसा देकर पन्ना से आए युवक से 1 लाख 18 हजार रूपए ठगने वाली, फरार 5-5 हजार रूपये की ईनामी ‘‘लुटेरी दुल्हन’’ एवं लुटेरी दुल्हन का पति गिरफ्तार

शादी का झांसा देकर पन्ना से आए युवक से 1 लाख 18 हजार रूपए ठगने वाली,  फरार 5-5 हजार रूपये की ईनामी ‘‘लुटेरी दुल्हन’’ एवं लुटेरी दुल्हन का पति गिरफ्तार
 
जबलपुर
          थाना लार्डगंज में दिनांक 11-7-21 की शाम लगभग 4 बजे जयप्रकाश तिवारी उम्र 33 वर्ष निवासी ग्राम सुनवानी खर्द पन्ना ने रिपोर्ट दर्ज करायी थी  कि उसकी शादी न होने से उसने अपने रिश्तेदारों से चर्चा की तो रिश्तेदारों ने उसे रवि दुबे निवासी घाट पिपरिया जिला दमोह नाम के व्यक्ति का मोबाइल नम्बर दिया एवं बताया कि उन्हें शादी की जानकारी है वो शादी के लिये लड़की बता देगें तब  उसने रबि दुबे से मोबाइल के माध्यम से बात की, रबि दुवे ने उसे रजनी तिवारी नाम की महिला से बात करायी रजनी तिवारी ने अपने व्हाटसएप एप के जरिये उसकी फोटो मांगी तो उसके पड़ौसी श्यामकांत प्यासी ने उसकी फोटो रजनी के व्हाटसएप में भेजी तो श्यामकांत के व्हाटसएप पर रजनी ने 3 लड़कियों की फोटो भेजी उन तीन लड़कियों में से जिसका नाम अंजलि तिवारी , रजनी ने बताया था उस अंजली तिवारी नाम की लड़की को पसंद कर लिया तो रजनी ने श्यामकांत के नम्बर पर शादी करने के लिये जबलपुर आने को कहा था दिनंाक 8-7-21 को वह एवं श्यामकंात प्यासी , उसके चाचा रामहित तिवारी, रामकिशोर तिवारी एवं बुआ का लड़का ओमप्रकाश चनपुरिया सभी लोग बुलेरो गाड़ी से दिन में लगभग 12-30 बजे रजनी तिवारी के बताये स्थान पर गोलबाजार पहुचे, थोड़ी देर बाद रजनी एक लड़की और एक लड़के के साथ आयी, रजनी के कहने पर हमने अपनी बुलेरो वहीं गोलबजार में खड़ी करके एक आटो में श्यामकंात प्यासी, चाचा रामहित तिवारी, बुआ का लड़का ओमप्रकाश चनपुरिया एंव रजनी तिवारी और रजनी की तिवारी के साथ आयी लड़की अंजली तिवारी जिससे उसकी शादी होने वाली थी एवं लड़की का भाई विकाश तिवारी को लेकर कोर्ट ले गयी, कोर्ट मे हमे चार नम्बर गेट के पास ले जाकर रजनी ने किसी वकील से बात की और उसका आधार कार्ड लेकर रजनी ने उससे वकील साहब को 8 हजार रूपये फीस दिलवायी। फिर उससे जहां स्टाम्प मिलते हैं वहां पर एक रजिस्टर में उसके दस्तखत करवायी और वकील साहब ने बोला की शादी हो गयी है आप लोग जा सकते हैं तब हम सभी लोग आटो में बैठकर फिर से गोलबजार आ गये फिर गोल बजार में आकर रजनी ने हमसे शादी के लिये कपड़ा एवं जेवरात खरीदने के लिये कुल 1 लाख 10 हजार रूपये मांग कर ले लिये और रजनी वहां से पैसे लेकर पैदल ही चली गयी अंजली तिवारी और अंजली का भाई विकाश तिवारी वहीं पर थे  तभी वहां पर 4 लोग आये और हम लोगों को धमकी देने लगे कि तुम लोग लड़की को भगाकर ले जा रहे हो हम लोग पुलिस वाले है तुमको पुुलिस थाना ले जायेंगे तो हम लोगों ने डर के कारण 8500 रूपये जो हमारे बचे थे वो भी उन चारों केा  दे दिये , तभी जिस लड़की से उसकी शादी होने वाली थी वह लड़की अंजली तिवारी एंव अंजली तिवारी का भाई विकाश तिवारी भी वहां से भाग गये। हम लोग भी डर के कारण गांव जाने के लिये निकले और अपने परिवार वालो को अपने साथ हुयी धोखाधड़ी के बारे में बताया। रजनी तिवारी, अंजली तिवारी, अंजली का भाई विकास तिवारी एवं बाद मे आये अन्य चार लोगों ने षड़यंत्र पूर्वक  शादी कराने का कहकर उसके साथ एक लाख अठारह हजार रूपये लेकर धोखाधड़ी की है। रिपोर्ट पर धारा 420, 120 बी, 506, 170 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।
                     पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) द्वारा घटित हुई घटना को गम्भीरता से लेते हुये आरोपियों की शीघ्र पतासाजी कर गिरफ्तारी हेतु आदेशित किये जाने पर अति. पुलिस अधीक्षक शहर श्री रोहित काशवानी (भा.पु.से.) एवं नगर पुलिस अधीक्षक कोतवाली श्री दीपक मिश्रा के मार्गनिर्देशन में थाना प्रभारी लार्डगंज श्री प्रफुल्ल श्रीवास्तव के नेतृत्व में टीम गठित कर लगायी गयी।
                पतासाजी के दौरान गठित टीम को विश्वसनीय मुखबिर से सूचना मिली कि उक्त घटना मंे मोची कुँआ मे रहने वाला आशीष तिवारी नाम का व्यक्ति शामिल है । पतासाजी कर सरगमी से तलाश करते हुये  आशीष तिवारी  पिता कमलेश तिवारी उम्र 51 वर्ष निवासी मोची कुंआ नट बाबा मंदिर के पास गढ़ा फाटक लार्डगंज को अभिरक्षा में लेते हुये पूछतांछ की गयी जिसने  बताया कि उसके मित्र विपिन जैन ने कहा कि गढ़ा फाटक मे ही रहने वाले सुनील ठाकुर की पहचान की मैडम ज्योति कुशवाहा (बदला हुआ नाम रजनी  तिवारी ) ने एक शादी वाली पार्टी जिला पन्ना से बुलायी है उनके पास पुलिस बनकर  धौंस दिखा कर दुल्हन को छुडाना है इस काम को करने मे पैसे मिलेंगे तो सुनील ठाकुर उर्फ शानू एंव विपिन जैन के साथ मिलकर शादी कराने वाली महिला ज्योति  कुशवाहा (बदला हुआ नाम रजनी  तिवारी ), तथा  भानू जैन  (नकली दुल्हन का बना हुआ भाई विकास तिवारी ) व श्रीमति सुमन जैन (नकली दुल्हन अंजलि तिवारी ) के साथ शामिल होकर षणयंत्र पूर्वक पन्ना से शादी करने वाली आयी पार्टी को स्वंय को पुलिस  होना बताकर धौस दिखा कर डराए  धमकाए इसी बीच मे ंज्योति  कुशवाहा (बदला हुआ नाम रजनी  तिवारी), पन्ना से आयी पार्टी से एक लाख दस हजार रूपए लेकर चली गयी थी, एंव नकली दुल्हन अंजलि तिवारी वास्तविक नाम सुमन जैन व उसका भाई विकास तिवारी वास्तविक नाम भानु जैन भी मौका देख कर भाग गए। आशीष तिवारी ,विपिन जैन , सुनील ठाकुर उर्फ शानू  के व्दारा पन्ना से आए लोगो  को पुलिस होने का एंव थाने ले जाने का  भय दिखा कर 8500 रूपए ले लेना व फिर भाग कर षंणयंत्र पूर्वक ठगे गए  एक लाख बीस हजार रूपए को आपस मे बांट लेना स्वीकार किए। पतासाजी कर सरगर्मी से तलाश करते हुये 1 (रजनी तिवारी जिसने प्रार्थी को शादी कराने के लिए पन्ना से बुलाया का असली नाम) ज्योति कुशवाहा पति रवि कुशवाहा उम्र 29 वर्ष निवासी ग्राम केवलारी थाना पनागर  तथा पुलिस बन कर पहुंचे विपिन जैन पिता चंद्र कुमार जैन उम्र 30 वर्ष निवासी गढ़ा  फाटक थाना लार्डगंज एवं सुनील ठाकुर पिता अन्नू ठाकुर उम्र 32 वर्ष निवासी अमखेरा नर्मदा नगर थाना गोहलपुर को अभिरक्षा मे लेते हुये आरोपियों से 58 हजार 500 रूपये जप्त करते हुये चारों आरोपियो को प्रकरण में विधिवत गिरफ्तार कर मान्नीय न्यायलय के समक्ष पेश किया गया था।

                      आरोपी सुमन जैन (नकली दुल्हन अंजली),  भानू जैन (नकली दुल्हन अंजली का भाई)  की सरगर्मी से तलाश की जा रही थी। सुमन जैन पति भानू  उर्फ विवेक जैन  एवं भानू उर्फ विवेक जैन निवासी नारायण नगर गौतम मढिया थाना संजीवनी नगर के घटना दिनॉक से ही फरार थे, जिनके पकड़े न जाने पर पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) द्वारा दोनों की गिरफ्तारी  पर 5-5 हजार रूपये के नगद पुरूस्कार की उद्घोषणा की गयी थी, जिनकी सरगर्मी से तलाश की जा रही थी, आज विश्वसनीय मुखबिर की सूचना पर भानू उर्फ विवेक जैन उम्र 22 वर्ष , भानू की पत्नि श्रीमति सुमन जैन उम्र 20 वर्ष को शताब्दीपुरम से पकड़ा गया है, दोनों को प्रकरण में विधिवत गिरफ्तार कर मान्नीय न्यायालय के समक्ष पेश किया जा रहा है।

                     उल्लेखनीय है कि पकड़ा गया आरोपी भानू उर्फ विवेक जैन अपनी पत्नि को बहन बनाकर शादी का रिश्ता तय करता था, तथा बातचीत के दौरान रूपये लेकर धोखाधड़ी कर दोनों भाग जाते थे।

 उल्लेखनीय भूमिका* -  5-5 हजार रूपये के फरार ईनामी आरोपी पति-पत्नि को गिरफ्तार करने में थाना प्रभारी लार्डगंज प्रफुल्ल श्रीवास्तव, सहायक उप निरीक्षक कुंज बिहारी, प्रधान आरक्षक संतोष कुशवाहा, राकेश उपवन, आरक्षक मानवेन्द्र, महिला आरक्षक प्रिया सिंह की सराहनीय भूमिका रही।
Previous Post Next Post