सिर्फ नाम का 100 बिस्तर का सिहोरा सिविल हॉस्पिटल, डिजिटल एक्स-रे तक की सुविधा नहीं

सिर्फ नाम का 100 बिस्तर का सिहोरा सिविल हॉस्पिटल, डिजिटल एक्स-रे तक की सुविधा नहीं

नार्मल एक्स-रे देखने में डॉक्टर को आ जाता है पसीना, 8 से 10 लाख में शुरू हो जाएगा डिजिटल एक्स-रे, मरीजों को मिलेगी बड़ी राहत

सिहोरा

100 बिस्तरों के सिहोरा सिविल हॉस्पिटल में डिजिटल एक्स रे मशीन तक की सुविधा उपलब्ध नहीं है। सुनने में यह बात जरा अजीब सी जरूर लगे लेकिन है पूरी तरह सही। सिहोरा सिविल हॉस्पिटल में अभी भी पुराने तरीके से ही लोगों को एक्स-रे करवाने पड़ते हैं। एक्स्-रे भी इतना धुंधला की ऐसा कि  डॉक्टर को देखने में पसीना छूट जाए। दुर्घटना में घायल मरीज को नॉर्मल फैक्चर हुआ है या बड़ा इसका तो पता ही नहीं चलता, जबकि डिजिटल एक्स्-रे  खर्चा 8 से 10 लाख रुपए का है। इसके बावजूद आज तक यह सुविधा सिहोरा नगर और उसके आसपास के ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को नहीं मिल पाई।

अभी भी पुराने तरीके से हो रहा है एक्स्-रे  डॉक्टर को नहीं समझ में आता फैक्चर

आपको बताते चलें कि सिहोरा सिविल हॉस्पिटल में 60 एमए और 300 एमए की मशीन से ही एक्स्-रे  उतारा जाता है जिसमें एक्स-रे फिल्म को धोने और सुखाने में इतना समय लग जाता है कि तब तक डॉक्टर ही कहीं चले जाते हैं। जिसको लेकर मरीज भी परेशान होते नजर आ रहे हैं।


मझगवां पीएचसी सेंटर में उपलब्ध है सुविधा

100 बिस्तरों की सिहोरा सिविल हॉस्पिटल में डिजिटल एक्सरे की सुविधा उपलब्ध नहीं है लेकिन मझगवा जैसे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में यह सुविधा काफी पहले से उपलब्ध है। सिहोरा सिविल हॉस्पिटल में डिजिटल एक्स्-रे मशीन को लेकर करीब डेढ़ से 2 माह पहले युवाओं ने आमरण अनशन किया था जिसको लेकर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जबलपुर और डायरेक्टर मौके पर पहुंचे थे। उन्होंने इस सुविधा को जल्द से जल्द शुरू करने का आश्वासन दिया था लेकिन सारी बातें सिर्फ कोरी साबित हो रही है।
Previous Post Next Post