मजबूरी : खजुरी और घोराकोनी गांव के 350 कार्डधारियों को झेलनी पड़ती है मुसीबत

मजबूरी :  खजुरी और घोराकोनी गांव के 350 कार्डधारियों को झेलनी पड़ती है मुसीबत
गांव में हो राशन वितरण की व्यवस्था की मांग
सिहोरा

सिहोरा तहसील के अंतर्गत संचालित राशन दुकान कछपुरा में शामिल ग्राम खजुरी जो की एक स्वयं ग्राम पंचायत  का दर्जा प्राप्त है एवं घोराकोनी गांव जो की कछपुरा ग्राम पंचायत का पोषित गांव है।
इन दोनों गांव की भौगोलिक दृष्टि से राशन दुकान कछपुरा से दूरी देखी जाए तो लगभग 5 किलोमीटर के आसपास है
ऐसे में आप समझ सकते हैं की इन गांव के कार्डधारियों को राशन प्राप्त करने एवं वापस गांव/घर पहुंचने में कितनी मुसीबत का सामना करना पड़ता है।

लंबे अर्से से हो रही मांग

ज्ञात हो की अनेकों बार ग्राम के लोगों द्वारा गांव में ही राशन वितरण व्यवस्था की मांग शासन प्रशासन से की गई, परंतु गरीबों की यह आबाज नक्कारखाने में तूती बन कर रह जाती है। मांग पर कोई ध्यान नहीं दिया गया खजुरी ग्राम के मथुरा प्रसाद, किशनलाल, दुर्गाप्रसाद, रविशंकर, कोमल संतराम, सुनीता बाई, शांतिबाई, मुन्नीबाई केसरबाई, रजनीबाई बंशकार, परसोत्तम बंशकार, घोराकोनी गांव के अंबिका बर्मन, मुन्ना भाईजान,  तीरथ दाहिया, रूबाईलाल कोल,  दयाराम कोल ने बताया की हम सभी गरीब मजदूर है। मजदूरी करके अपना परिवार का गुजर-बसर करते हैं। परंतु हमे अपने गांव से 5 किलोमीटर दूर राशन लेने कछपुरा जाना पड़ता है। जिस कारण महीने भर का राशन पाने के लिए हम लोगों का 2 से 3 दिन का समय खराब हो जाता है। राशन दुकान में उमड़ने वाली भीड़ के कारण बमुश्किल से नंबर आता है। और अनेकों बार ऐसा होता है की नंबर आते ही सर्वर अटक जाता है। जिस कारण दूसरे दिन पुनःआना पड़ता है। जिससे हमारी रोजी-रोटी मजदूरी पर बुरा असर पड़ता है। आर्थिक नुकसान भी सहना पड़ता है सबसे ज्यादा फजीहत वृद्ध दिव्यांग निशक्त लोगों की होती है, जो बेसहारा है चल फिर नहीं सकते और उनके परिवार में कोई अन्य सदस्य नहीं है। ऐसे में उनके सामने मजबूरी यह होती है की उन्हें घर से राशन दुकान किराए का वाहन लेकर आना पड़ता है या अन्य मददगार पर आश्रित रहना पड़ता है।
अगर राशन लेने नहीं आ पाए तो उन्हें राशन नहीं मिल पाता और उनके परिवार के उदर पोषण में संकट पैदा हो जाता है।

गांव में उपलब्ध है शासकीय भवन

ग्रामीणों के बताए अनुसार खजुरी एवं घोराकोनी गांव में शासकीय भवन स्थित है। जहां पर गरीबों को बटने वाला राशन का भंडारण भी हो सकता है एवं व्यवस्थित ढंग से राशन का वितरण भी हो सकता है।

फैक्ट फाइल
ग्राम खजरी में कार्ड धारियों की संख्या 200

ग्राम घोराकोनी में कार्ड धारियों
की संख्या 145
Previous Post Next Post