तीसरी लहर की तैयारी की खुली पोल

तीसरी लहर की तैयारी की खुली पोल

सवा करोड़ की लागत से बने ऑक्सीजन प्लांट में आई तकनीकी गड़बड़ी, ड्राई एयर कंप्रेसर हुए खराब

अधिकारी और ऑक्सीजन प्लांट के कर्मचारियों के फूले हाथ पर

सिहोरा

कोरोनो की तीसरी रहर को देखते हुए राज्य सरकार के निर्देश पर प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ऑक्सीजन प्लांट का निरीक्षण करने बुधवार को सिहोरा सिविल हॉस्पिटल पहुंचे। लेकिन ऑक्सीजन प्लांट में केबिल के गर्म होने और प्लांट में लगे ड्रायर और कंप्रेसर में गड़बड़ी को देखते ही स्वास्थ्य विभाग और प्लांट के कर्मचारियों के हाथ पैर फूलने लगे उन्होंने तुरंत इसकी जानकारी भोपाल मुख्यालय जबलपुर के उच्च अधिकारियों को दी। 

प्लांट के लोकार्पण के बाद से ही आ रही थी समस्या अधिकारियों ने नहीं दिया ध्यान

 सिहोरा सिविल हॉस्पिटल में करीब सवा करोड़ से अधिक की लागत से ऑक्सीजन प्लांट तैयार हुआ। प्लांट के तैयार होने के साथ ही ड्रायर और कंप्रेसर सही तरीके से काम नहीं कर रहे थे इसके बावजूद भी इतने गंभीर मामले को अधिकारियों ने ठंडे बस्ते में डाल दिया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को कोविड-19 के लगातार बढ़ते मामले को देखते हुए अस्पतालों में स्वास्थ्य सुविधाएं एंबुलेंस और ऑक्सीजन प्लांट के निरीक्षण के निर्देश स्वास्थ्य विभाग के अमले को दिए थे। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग का अमला प्लांट कि मॉक ड्रिल करने पहुंचा जिसके बाद यह पता चला कि ऑक्सीजन प्लांट में लगा ड्रायर और कंप्रेसर सही तरीके से काम नहीं कर रहा है वही सप्लाई के लिए लगी केबिल भी गर्म हो रही है।

अक्टूबर 2021 में सवा करोड़ की लागत से हुआ बना था ऑक्सीजन प्लांट

जानकारी के मुताबिक सिविल हॉस्पिटल में पीएम केयर्स फंड से 7 अक्टूबर 2021 को 500 मीटर प्रति मिनट क्षमता का तैयार हुए ऑक्सीजन प्लांट का लोकार्पण किया गया। उस समय कोविड-19 के मामले अधिक नहीं होने के कारण अधिकतर मरीजों को जबलपुर मेडिकल कॉलेज भेज दिया जाता था। ऐसे में ऑक्सीजन प्लांट से ऑक्सीजन की आवश्यकता ही नहीं पड़ी।


खास खास

एक करोड़ 3200000 रुपए की लागत से हुआ था ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण


एनएचएआई , डीआरडीओ, विद्युत विभाग और गैरीजॉन मेडिकल गैस्ट्रिन ऑक्सीजन पीएसए कंपनी ने लगाए थे ऑक्सीजन प्लांट के उपकरण


32 बेड के मरीजों को एक साथ पहुंचाई जा सकती है ऑक्सीजन

क्या कहते हैं जिम्मेदार

अस्पताल परिसर में लगे ऑक्सीजन प्लांट कि बुधवार को मॉक ड्रिल की गई इस दौरान कंप्रेसर और ड्रायर में गड़बड़ी सामने आई है जिसकी जानकारी उच्च अधिकारियों और जबलपुर में दी गई है। 


डॉ आर्यन तिवारी, प्रभारी सिहोरा सिविल अस्पताल
Previous Post Next Post