सपाट जमीन को तब्दील कर दिया खाई में, करोड़ों का आयरन ओर और बॉक्साइट का अवैध उत्खनन

सपाट जमीन को तब्दील कर दिया खाई में, करोड़ों का आयरन ओर और बॉक्साइट का अवैध उत्खनन
  पुलिस और प्रशासन की नाक के नीचे दो माह से चल रहा था काम, पांच एकड़ से अधिक एरिया को खोद डाला माफिया ने

माइनिंग विभाग ने जब्ती के नाम पर किया सिर्फ खिलवाड़

सिहोरा

सिहोरा तहसील के राजस्व निरीक्षक मंडल मझगवां के गिदुरहा गांव में माफिया ने सपाट जमीन को खाई में तब्दील कर दिया। सरकारी जमीन पर अवैध उत्खनन कर करोड़ों रुपए का बॉक्साइट आयरन ओर और लेट राइट खोद डाला है। पुलिस और प्रशासन की नाक के नीचे करीब दो माह से अवैध उत्खनन का काम क्षेत्र में खुलेआम चल रहा था, लेकिन जिम्मेदार अधिकारी सब कुछ देख रहे थे। वहीं दूसरी तरफ माइनिंग विभाग ने सिर्फ दिखावे की कार्रवाई करते हुए मौके से एक पोकलेन मशीन और ट्रैक्टर ट्राली जप्त कर कार्रवाई के नाम पर खिलवाड़ जैसा काम किया।


 ग्राम पंचायत गिदुरहा के पटवारी हल्का नंबर 35 खसरा नंबर 689, 708 राजस्व रिकॉर्ड में एक शासकीय दर्ज है उस जमीन पर माफिया ने करोड़ों रुपए का बॉक्साइट आयरन ओर और लेट लाइट खोद डाला। सूत्रों की मानें तो अवैध उत्खनन का यह खेल करीब  दो माह से अधिक समय से चल रहा था। अवैध उत्खनन की शिकायतें कई बार स्थानीय लोगों ने प्रशासनिक अधिकारियों को की लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों ने कोई भी कार्यवाही नहीं की। 

सत्ता पक्ष के नेताओं के संरक्षण में चल रहा था अवैध उत्खनन !

सूत्रों की माने तो अवैध खनन के खेल में सत्ता पक्ष के नेताओं का पूरा संरक्षण माफिया को मिल रहा था। जिसके चलते माफिया खुलेआम भारी भरकम मशीनों के साथ अवैध खनन के काम में लगा रहा। पूरे मामले में पुलिस और स्थानीय प्रशासन की भूमिका संदिग्ध नजर आ रही है।

शासन को करोड़ों रुपए के राजस्व का चूना, भारी मशीनों के पंजे बयां करती तस्वीर

माफिया ने अवैध आयरन और बॉक्साइट और लाइट का अवैध उत्खनन कर शासन को करोड़ों रुपए का चूना लगा दिया है। खाई में बने पोकलेन और भारी मशीनों के नेता इस बात की गवाही दे रहे हैं कि कितने बड़े पैमाने पर माफिया ने अवैध उत्खनन कर डाला है।

सिर्फ दिखावे की कार्रवाई की माइनिंग और प्रशासनिक अमले ने
इतने लंबे समय से हो रहे अवैध उत्खनन को लेकर माइनिंग और स्थानीय प्रशासन के अमले ने सिर्फ दिखावे की कार्रवाई करते हुए मौके से गुरुवार को एक पोकलेन मशीन और ट्रैक्टर को जप्त किया। जो इस बात की ओर इशारा करता है कि कहीं ना कहीं प्रशासनिक अमला इस पूरे अवैध उत्खनन के काम में माफिया का साथ दे रहा था।
Previous Post Next Post