दो साल से फंसा रुपया वापस दो नहीं तो दे देंगे जान

निवेशक अभिकर्ताओं ने सहारा इंडिया की सिहोरा ब्रांच में किया प्रदर्शन

दो साल से फंसा रुपया वापस दो नहीं तो दे देंगे जान

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सांसद राकेश सिंह को पोस्टकार्ड भेजकर भेजकर पैसा वापस दिलाने की मांग की


सिहोरा

सहारा इंडिया द्वारा करीब दो सालों से निवेशकों का पैसा वापस नहीं किए जाने से परेशान निवेशक अभिकर्ताओं ने गुरुवार को सहारा इंडिया की सिहोरा स्थित ब्रांच में जमकर प्रदर्शन किया। निवेशक अभिकर्ता हितकारी संघ के पदाधिकारियों ने आरोप लगाया कि उन्होंने अपने जीवन की गाढ़ी कमाई सहारा इंडिया में निवेश कर दी लेकिन पॉलिसी मैच्योर होने के बाद जब पैसे लेने की बारी आई तो सहारा इंडिया निवेशकों को सिर्फ भटका रहा है। सहारा इंडिया अगर हमारा पैसा वापस नहीं देता तो हम अपनी जान दे देंगे। 

निवेशक अभिकर्ता हितकारी संघ के संरक्षक सौरभ नाटी शर्मा, युवा कांग्रेस के पूर्व प्रदेश महासचिव राजेश चौबे प्रभात कुररिया, घनश्याम बड़गेंया, प्रवीण पाठक, पवन सोनी, शेख साबिर, जगदीश सैनी, इमाम खान, राहुल पांडे, गुल्लू खान, एजाज कुरैशी के साथ निवेशक अभिकर्ताओ ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सांसद राकेश सिंह के नाम पोस्टकार्ड लिखते हुए उनसे निवेशकों का पैसा वापस दिलाए जाने की मांग की साथ ही यह पोस्टकार्ड प्रधानमंत्री और सांसद को भेजे जाएंगे।

दो सालों से 10 से 15 करोड़ रुपए फसा निवेशक अभिकर्ताओ का

निवेशक अभिकर्ता हितकारी संघ के कार्यकारिणी सदस्य रत्नेश दुबे ने बताया कि सिहोरा ब्रांच में करीब दो सालों से 10 से 15 करोड़ रुपए फंसा है। पार्टी में चोर होने के बाद अभिकर्ता जब सहारा इंडिया की ब्रांच में पहुंचता है तो उसे टका सा जवाब दे दिया जाता है कि अभी पैसा नहीं है। निवेशक यहां से वहां भटक रहे हैं लेकिन उनकी कोई सुनने वाला नहीं है।राहुल जैन ,पूरन लाल गुप्ता,अनिल श्रीवास,राजेश्वरी ग्रर्ग,शशिप्रभा तिवारी,अर्चना चौराशिया, चंद्रकांत द्विवेदी,विजय श्रीवास, रमेश तिवारी,राजकुमार पटेल, विनोद विश्कर्मा,शरद दुबे, प्रमोद दुबे, विजय दीवान, महेंद्र अग्रहरि,शशि वाला चावला, सुदर्शन विश्कर्मा,सनद हलड़कर,रमाकांत मिश्र,ललित मिश्रा, ललित पटेल,सतेंद्र मिश्रा अर्जुन पटेल, नरेंद्र पांडे  माखन रॉय,अतुल पटेल,लखन नामदेव,अशोक पटेल ने बताया कि सिहोरा ब्रांच में कुछ दिनों पहले 10 लाख आए थे, लेकिन रीजनल मैनेजर ने सांठगांठ करके अपने लोगों को छह लाख रुपये बांट दिए बाकी चार लाख रुपए का कुछ भी पता नहीं चला वहीं दूसरी तरफ से पूरा ब्रांच के अधिकारी और कर्मचारी ताला लगाकर ब्रांच से गायब है।
Previous Post Next Post