तलैया मे लहलहा रही दबंगों की फसल

तलैया मे लहलहा रही दबंगों की फसल
भू माफियाओं ने तलैया की मेढ़ को किया नेस्तनाबूद, सरपंच ने सौंपी शिकायत

कार्यवाही का इंतजार, भू माफियाओं के हौसले बुलंद

सिहोरा

सिहोरा तहसील मुख्यालय से 17 किलोमीटर की दूरी पर बसे हृदयनगर गांव में शासकीय तलैया पर कब्जा करने का मामला प्रकाश में आया है, जहां एक ओर केंद्र व प्रदेश सरकारे जल स्रोतों को बचाने व संरक्षित करने की बड़ी-बड़ी बातें कर रही है, ताकि प्राचीन जल स्रोत जीवित रहे ताकि इन जल स्रोतों से गांव का वाटर लेवल बना रहे। गांव के लोगों को निस्तार करने मवेशियों को पानी पीने मे परेशानी न हो परंतु ग्राम ह्रदयनगर पटवारी हल्का नंब 22 के अंतर्गत स्थित गाँव की सार्वजनिक प्राचीन तलैया जिसका क्षेत्रफल लगभग 5 एकड़ होगा लगभग 50 वर्ष पूर्व ग्राम पंचायत के द्वारा शासन की राशि से खुदवायी गयी थी।।इसके बाद और भी कई बार बीच-बीच में तलैया का गहरीकरण राहत कार्य व मनरेगा के साथ अन्य तमाम शासकीय योजनाओं के तहत कई लाखों की राशि से काम कराया गया परंतु उक्त तलैया में हृदयनगर निवासी चुन्नीलाल कुम्हार एवं गंगाराम पिता फागूराम के द्वारा अवैध कब्जाकर तार फेंसिंग कर ली गई। 

तलैया की मेढ़ को जेसीबी से किया नेस्तनाबूद

तलैया की मेढ को जेसीबी मशीन से खोदकर नेस्तनाबूद कर दिया गया एवं तलैया के मूल स्वरूप को नष्ट कर खेत बना दिया गया और गेहूं की फसल लगाई गई है। मामले की शिकायत ग्राम पंचायत के सरपंच गणेश राय व ग्रामीणों द्वारा सिहोरा तहसीलदार राकेश चौरसिया को हस्ताक्षरयुक्त शिकायत सौंपकर अवैध कब्जा हटाने की मांग की गई है। आपको बता दें की गाँव में पटवारी कोटवार की मिलीभगत से बड़े लंबे समय से शासकीय भूमियों पर अवैध कब्जा का सिलसिला जारी है राजस्व अमले की निष्क्रियता के चलते शासकीय भूमियों पर भू माफियाओं की पैनी नजर लगी हुई है। ग्रामीणों की माने तो चुन्नीलाल के द्वारा जब तलैया की मेढ को जेसीबी मशीन द्वारा नष्ट किया जा रहा था, तब अनेकों लोगों ने स्थानीय आर.आई पटवारी सचिव सरपंच सीएम हेल्पलाइन 181 में शिकायत दर्ज कराई परंतु किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई। गांव के निवासी हीरा सिंह विश्वकर्मा, इंद्रकुमार रामकुमार यादव, लालजी काछी, रघुवीर काछी, छिदामीलाल गडारी ने उक्त शासकीय तलैया से अवैध कब्जा को हटाकर वैधानिक कार्रवाई की मांग की है।
Previous Post Next Post