गोदाम का नहीं हुआ अनुबंध, खरीदी नहीं होने से किसान परेशान

गोदाम का नहीं हुआ अनुबंध, खरीदी नहीं होने से किसान परेशान

मझौली ब्लाक की सेवा सहकारी समिति पोला केंद्र क्रमांक 1 का मामला : मैपिंग का काम भी नहीं हो पाया पूरा

मझौली

समर्थन मूल्य पर धान की सरकारी खरीदी शुरू करने के प्रशासन के दावे सिर्फ कागजों पर ही दिखाई दे रहे हैं, हकीकत इन से कोसों दूर है। हालत यह है कि धान खरीदी के निर्धारित समय के लगभग 8 दिन बीत जाने के बावजूद जिस केंद्र में खरीदी होना है जिम्मेदार अधिकारियों ने उससे अभी अनुबंध ही नहीं किया। ऐसे में संबंधित केंद्र के किसान खरीदी शुरू नहीं होने से परेशान है। मामला मझौली तहसील के सेवा सहकारी समिति केंद्र क्रमांक 1 का है।

यह है पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक सेवा सहकारी समिति मझौली के पोला केंद्र क्रमांक 1 को अधिकारियों ने केंद्र तो बना दिया लेकिन यहां बने वेयरहाउस का काम भी अभी पूरा नहीं हो पाया है ऐसे में न तो वेयरहाउस का समिति से अनुबंध हो पाया और ना ही मैपिंग। ऐसे में किसानों को खरीदी के ना तो मैसेज हो पा रहे हैं और ना खरीदी केंद्र में खरीदी शुरू जिसको लेकर किसानों में भारी आक्रोश है।

25000 क्विंटल खरीदी का लक्ष्य, ढाई सौ से 300 किसान है पंजीकृत

खरीदी केंद्र पोला से जुड़े किसान रघुवीर पटेल, सोहन पटेल, विजय लाला, बालाराम, हीरालाल ने आरोप लगाया कि जिम्मेदार अधिकारियों ने खरीदी केंद्र तो बना दिया लेकिन अभी ना तो वेयरहाउस का काम कंप्लीट हो पाया है और न ही अनुबंध ऐसे में किसान अपनी उपज लेकर बेचने के लिए जाए तो जाए कहां। संबंधित खरीदी केंद्र में 25000 क्विंटल धान खरीदी का लक्ष्य रखा गया है वहीं केंद्र में पंजीकृत किसानों की संख्या ढाई सौ  300 बताई जा रही है। 


                  बॉक्स
जिस गांव में खरीदी केंद्र उसे ही कर दिया ट्रांसफर 
सहकारी विपणन समिति मझौली में सुनवानी गांव की मेपिंग हुई थी, जहाँ खरीदी स्थल बनाया गया है, लेकिन किसानों की किस तरह से परेशान किया जा रहा है इस बात का स्पष्ट प्रमाण है कि उसी गांव को अन्य समिति में ट्रांसफर कर दिया गया।  इसकी खबर लगते ही सुनवानी गाव किसानों  काफी नाराजगी है कि महज कुछ दूरी में बनाये गए केंद्र से उनके गांव को अलग कर दिया गया।


क्या कहते हैं जिम्मेदार

खरीदी केंद्र के मैपिंग का काम अभी शेष रह गया है वहीं वेयर हाउस से अनुबंध का काम भी चल रहा है जल्दी किसानों को मैसेज भेज दिए जाएंगे और खरीदी का काम शुरू हो जाएगा।

पल्लवी जैन, सहायक खाद्य अधिकारी सिहोरा
Previous Post Next Post