तालाब खोदने की आड़ में माफिया ने करोड़ों के आयरन ओर- बॉक्साइट का कर डाला अवैध उत्खनन

तालाब खोदने की आड़ में माफिया ने करोड़ों के आयरन ओर- बॉक्साइट का कर डाला अवैध उत्खनन

तीन माह पहले विधायक निधि से 15 लाख में ग्राम पंचायत गिदुरहा में स्वीकृत हुआ था तालाब, जिम्मेदार अधिकारी बने रहे मूकदर्शक

सिहोरा

सिहोरा तहसील की ग्राम पंचायत गिदुरहा में तालाब खोदने की आड़ में माफिया ने करोड़ों रुपए के आयरन ओर और बॉक्साइट का अवैध उत्खनन कर डाला। करीब दो माह से हो रहे अवैध उत्खनन की जानकारी तहसील के जिम्मेदार प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों को पूरी तरह थी। इसके बाद भी अधिकारी करोड़ों रुपए का राजस्व दोनों हाथों से लुटाता देखते रहे। इस मामले की शिकायत भी कई बार ग्रामीणों ने उच्च अधिकारियों से की थी लेकिन एक भी शिकायत को प्रशासन ने गंभीरता से नहीं लिया।

सूत्रों के मुताबिक ग्राम पंचायत गिदुरहा में माफिया ने जिस सरकारी जमीन पर आयरन और और बॉक्साइट का अवैध उत्खनन किया वहां पर तीन माह पहले विधायक निधि से तालाब स्वीकृत हुआ था। यह भी जानकारी सूत्रों से मिल रही है कि उक्त तालाब के लिए विधायक निधि से 10 लाख रुपए स्वीकृत भी हो चुके थे। माफिया ने इसी बात का फायदा उठाकर तालाब खोदने के नाम पर कीमती गौड़ खनिज मनमाने तरीके से खोद डाला। अवैध उत्खनन किस खेल में स्थानीय सत्ताधारी नेताओं के साथ प्रशासनिक अधिकारियों की माफिया को खुली छूट मिली। इसी का फायदा उठाकर माफिया ने सरकार को करोड़ों रुपए के राजस्व की चपत लगा दी। 

तालाब का ग्रामीणों के लिए कोई औचित्य ही नहीं

जानकारी के मुताबिक जिस शासकीय भूमि पर तालाब स्वीकृत हुआ है वह ग्राम पंचायत गिदुरहा से करीब 2 से 3 किलोमीटर दूर है। उक्त तालाब का ग्रामीणों के हिसाब से कोई औचित्य ही नहीं है। ऐसे में यह बात और पुख्ता हो रही है कि नेताओं की सरपंच सचिव और नेताओं की मिलीभगत से यह पूरा अवैध उत्खनन का खेल चल रहा था। इसके पहले भी ग्राम पंचायत में दो और तालाब स्वीकृत हुए हैं जो कि बन चुके हैं लेकिन उनका ग्रामीणों को कोई भी लाभ नहीं मिल रहा।
Previous Post Next Post