हाईकोर्ट के आदेश पर आरटीओ ने की अवैध ऑटो जप्ती की कार्रवाई, ऑटो चालकों में मचा हड़कंप

हाईकोर्ट के आदेश पर आरटीओ ने की अवैध ऑटो जप्ती की कार्रवाई, ऑटो चालकों में मचा हड़कंप

सिहोरा, खितौला, मझगवां और मझौली में दो दिन में करीब तीन दर्जन से अधिक जप्त ऑटो थानों में किए खड़े

अवैध ऑटो के संचालन को लेकर पूरे दिन सिहोरा और संबंधित थाना क्षेत्रों में जप्ती की चली कार्रवाई


सिहोरा

हाईकोर्ट के आदेश पर आरटीओ ने अवैध ऑटो के संचालन को लेकर शुक्रवार और शनिवार सिहोरा सहित आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में ताबड़तोड़ कार्रवाई करते हुए करीब तीन दर्जन से अधिक ऑटो को जप्त करते हुए संबंधित थाना क्षेत्रों में खड़ा करवा दिया। आरटीओ की हुई इस अचानक कार्रवाई से ऑटो चालकों में हड़कंप मच गया। कार्रवाई को लेकर कई ऑटो चालक अपना ऑटो छुपते छुपाते नजर आए। अमूमन सड़कों पर दिखने वाले ऑटो पूरी तरह नदारद रहे। 


थाने में ऑटो चालकों का लगा रहा मेला

आरटीओ की अवैध ऑटो को जप्त करने की कार्रवाई के बाद सिहोरा थाना में ऑटो चालकों का मेला लगा रहा। सिहोरा की बात की जाए तो दो दिनों में आरटीओ ने करीब 28 ऑटो को जप्त करने की कार्रवाई की है। जब्ती की कार्रवाई को लेकर ऑटो चालक हैरान और परेशान रहे।  कई पुलिस वाले ऑटो को जप्त कर स्वयं ऑटो को चला कर थाने लेकर आते नजर आए। 

दूसरे थाना क्षेत्रों में भी जप्त हुए ऑटो

ग्रामीण क्षेत्र की बात की जाए तो खितौला, पान उमरिया और मझौली में भी आरटीओ ने ताबड़तोड़ कार्रवाई करते हुए अवैध ऑटो को जप्त किया। अवैध ऑटो को जप्त करने की कार्रवाई के दौरान पूरा आरटीओ का अमला लगा रहा। सूत्रों की मानें तो कई ऐसे ऑटो जब किए गए हैं जिनका परमिट फिटनेस बीमा भी नहीं है। कुछ ऑटो चालकों के तो रजिस्ट्रेशन भी नहीं है। ऐसे कई ऑटो चालक अपना ऑटो वहीं पर छोड़ कर भाग गए।

हाईकोर्ट ने यह दिए थे निर्देश, जिसके चलते चल रही ताबड़तोड़ कार्रवाई

आरटीओ संतोष पाल के मुताबिक जबलपुर उच्च न्यायालय में  8/ 2013 सतीश वर्मा विरुद्ध मध्य प्रदेश शासन पीआईएल दायर की गई थी। 2013 से लगातार माननीय उच्च न्यायालय ऑटो के अवैध संचालन पर निगरानी रखे और समय-समय पर विभिन्न प्रकार के निर्देश दे रही है। विगत दिनों उसकी सुनवाई हुई जिसमें ट्रांसपोर्ट कमिश्नर की व्यक्तिगत उपस्थिति हाई कोर्ट द्वारा की गई थी। विभाग द्वारा की गई कार्रवाई से न्यायालय ने असंतोष व्यक्त किया था। परिवहन आयुक्त ने इसे तुरंत संज्ञान में लेकर पूरे मध्यप्रदेश में अवैध ऑटो रिक्शा संचालन को रोकने वृहद अभियान चलाए जाने का निर्देश दिया था। इसी परिपेक्ष में डीजीपी द्वारा वीडियो कांफ्रेंसिंग लेकर पूरे मध्यप्रदेश के पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिए थे कि विभिन्न थाना क्षेत्रों में ऑटो के अवैध संचालन को रोका जाए। ऐसे अवैध ऑटो को जप्त कर न्यायालय में चालान प्रस्तुत किए जाएं। इसी परिपेक्ष में जबलपुर जिले में कार्रवाई की जा रही है जो लगातार चल रही है। 

इनका कहना

शुक्रवार को 10 और शनिवार को 18 ऑटो सिहोरा थाना  में जप्त कर खड़े कराए गए। इसके अलावा खितौला, मझगवां और मझौली में ऑटो जब तक किए गए हैं। न्यायालय में ऑटो चालक सुपुर्दगी के लिए आवेदन देंगे। वहां से हमें समन्स आएगा। न्यायालय द्वारा तय किए गए जुर्माने को जमा कर ऑटो चालक अपना वाहन मुक्त करा सकेंगे।

संतोष पाल, आरटीओ जबलपुर
Previous Post Next Post