करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने घेरा एनएच-30 मोहतरा टोल प्लाजा, जमकर हुआ हंगामा

करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने घेरा एनएच-30 मोहतरा टोल प्लाजा, जमकर हुआ हंगामा

करणी सेना के जिलाध्यक्ष का आरोप टोल प्लाजा के कर्मचारियों ने की बदतमीजी साथियों से गाली गलौज

मौके पर पहुंचा गोसलपुर, खितौला थाने का पुलिस बल, करीब एक घंटे तक चले हंगामे के बाद किसी तरह शांत हुआ मामला


सिहोरा

करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने एनएच-30 स्थित मोहतरा टोल प्लाजा का घेराव कर दिया। जिसको लेकर हंगामे की स्थिति बन गई। भारी संख्या में पहुंचे कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि उनके जिलाध्यक्ष से टोल प्लाजा के कर्मचारियों ने बदतमीजी करते हुए गाली गलौज की है। टोल प्लाजा में सैकड़ों करणी सेना के कार्यकर्ताओं को देखकर कर्मचारी घबरा गए उन्होंने तुरंत इसकी जानकारी गोसलपुर और खितौला थाने की पुलिस को दी। इसके पहले टोल प्लाजा के अधिकारी और कर्मचारियों के बीच जमकर तू-तू मैं-मैं और बहस होती रही। मामले की जानकारी लगते ही दोनों थानों का पुलिस बल टोल प्लाजा पहुंचा साथ ही सिहोरा एसडीओपी भी मौके पर पहुंचे। काफी देर तक टोल प्लाजा में तनाव की स्थिति बनी रही बाद में किसी तरह मान मनोबल के बाद मामला शांत हुआ। 

यह है पूरा मामला

सूत्रों से हासिल जानकारी के मुताबिक करणी सेना के जिलाध्यक्ष दीपक सिंह चौहान रविवार को कार से कटनी से जबलपुर लौट रहे थे। वह जैसे ही मोहतरा टोल प्लाजा के पास पहुंचे वहां पर पदस्थ कर्मचारियों ने उनके साथ जमकर बदतमीजी करते हुए गाली गलौज कर दी। जिसको लेकर काफी देर तक टोल प्लाजा में हंगामे की स्थिति बनी रही। बाद में करणी सेना के जिलाध्यक्ष कार से जबलपुर लौट गए। सोमवार को करणी सेना के सैकड़ों कार्यकर्ता मोहतरा टोल प्लाजा पहुंचे और प्लाजा में जमकर हंगामा शुरू कर दिया। कार्यकर्ताओं का कहना था कि टोल प्लाजा में पदस्थ कर्मचारियों ने उनके जिलाध्यक्ष से बदतमीजी की है,।जब तक वह कर्मचारी उनसे माफी नहीं मांग लेते तब तक टोल प्लाजा का घेराव जारी रहेगा।

मौके पर पहुंचा दो थानों का पुलिस बल और एसडीओपी सिहोरा

करणी सेना के अल्टीमेटम और कार्यकर्ताओं के टोल प्लाजा में हंगामे की खबर लगते ही गोसलपुर और खितौला थाने का पुलिस बल मौके पर पहुंचा। मामले की गंभीरता को देखते हुए सेवड़ा एसडीओपी श्रुतकीर्ति सोमवंशी भी टोल प्लाजा में पहुंच गए और करणी सेना के कार्यकर्ताओं और टोल प्लाजा के कर्मचारियों के बीच हो रहे हंगामे को किसी तरह शांत कराया। 

करीब 10 मिनट तक फ्री रहा टोल प्लाजा

हंगामे के दौरान करणी सेना के कार्यकर्ता टोल प्लाजा के सामने वाले हिस्से में पहुंच गए जिसके कारण करीब 10 मिनट तक टोल प्लाजा पूरी तरह फ्री हो गया। दोनों थानों के पुलिस बल और एसडीओपी के पहुंचने के बाद पूरे मामले को किसी तरह शांत कराया गया। 


इनका कहना

मैं कार से कटनी से जबलपुर लौट रहा था मोहतरा टोल प्लाजा के पास फास्ट्रेक का सेंसर काम नहीं करने के कारण मैंने दो-चार बार गाड़ी आगे पीछे की। इस बीच टोल के कर्मचारी वहां पहुंचे। मेरे साथ गाड़ी में बैठे साथियों के साथ बदतमीजी करते हुए गाली गलौज की। मैंने इस बात को लेकर मैनेजर से बात करने की कोशिश की लेकिन कर्मचारी नहीं माने और गुंडागर्दी पर उतारू हो गए।

दीपक सिंह चौहान, जिलाध्यक्ष करणी सेना



मुझे कर्मचारियों ने बताया कि उनकी गाड़ी में जो फास्टट्रैक लगा था वह स्कैन नहीं हो रहा था।  जिसको लेकर कर्मचारियों ने उन्हें गाड़ी पीछे ले जाने को कहा जिसको लेकर गरमा गरमी का माहौल बन गया गाली गलौज जैसी कोई भी बात नहीं हुई है। दूसरे दिन सैकड़ों की संख्या में करणी सेना के कार्यकर्ता और जिला अध्यक्ष पहुंचे वह इस बात पर अड़े हुए थे कि जिन भी कर्मचारियों ने उन्हें रोका है बे उनसे माफी मांगे। मौके पर पहुंचे पुलिस बल की मौजूदगी में पूरे मामले को शांत कराया गया। 

पीयूष तिवारी, मैनेजर मोहतरा टोल प्लाजा एनएच 30
Previous Post Next Post