फ्रंटलाइन वर्कर्स को "बूस्टर", सीनियर सिटीजन को "प्रिकॉशन डोज"

फ्रंटलाइन वर्कर्स को "बूस्टर", सीनियर सिटीजन को "प्रिकॉशन डोज"

कोरोना से जंग की तैयारी :  सिहोरा ब्लॉक के आठ सेंटर में 293 फ्रंटलाइन वर्कर, 150 सीनियर सिटीजन को लगाई गई वैक्सीन

लगातार चलेगा बूस्टर और प्रिकॉशन डोज लगाने का काम

सिहोरा

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के लगातार बढ़ते खतरे को देखते हुए मध्यप्रदेश शासन स्वास्थ्य विभाग ने सोमवार से कोरोना से लड़ने के लिए फ्रंटलाइन वर्कर्स को बूस्टर डोज लगाने का काम शुरू कर दिया। पहले चरण में फ्रंटलाइन के ऐसे वर्कर्स जिन्हें वैक्सीन के डोज लगे हुए 9 माह का समय हो चुका था उन्हें बूस्टर डोज लगाया गया। ऐसे सीनियर सिटीजन जिनकी उम्र 60 वर्ष से अधिक और वह गंभीर बीमारी से ग्रसित थे उन्हें भी प्रिकॉशन ढोज लगाया गया।

443 लोगों को लगाया गया बूस्टर और प्रिकॉशन डोज

स्वास्थ्य विभाग से हासिल जानकारी के मुताबिक सिहोरा ब्लॉक में बनाए गए आर्ट सेंटर में 443 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। इसमें 293 फ्रंटलाइन वर्कर्स, 150 से अधिक सीनियर सिटीजन शामिल थे। वैक्सीन लगाने का काम सुबह 9:30 बजे से शुरू हो गया था, जो देर शाम तक चलता रहा। 

इन फ्रंट लाइन वर्कर्स को लगाया गया बूस्टर डोज

सिहोरा में राजस्व विभाग, नगरपालिका, जनपद पंचायत, महिला एवं बाल विकास विभाग, पुलिस और हॉस्पिटल के डॉक्टर के कोविड-19 के नए वेरिएंट ओमिक्रोन से बचाव के लिए बूस्टर डोज लगाए गए। साथ ही सीनियर सिटीजन को भी प्रिकॉशन डोज लगाने का काम चलता रहा।

सिविल हॉस्पिटल सिहोरा, पीएचसी मझगवां, गोसलपुर में भी बने सेंटर

स्वास्थ्य विभाग से हासिल जानकारी के मुताबिक फ्रंटलाइन वर्कर्स को बूस्टर डोज लगाने के लिए सिविल हॉस्पिटल सिहोरा, पीएचसी मझगवां, गोसलपुर में भी सेंटर बनाया गया था जहां पर पहुंचने वाले फ्रंटलाइन वर्कर और सीनियर सिटीजन को वैक्सीन लगाई गई।
Previous Post Next Post