आंदोलनकारियों ने "खून" से लिखा मुख्यमंत्री और राज्यपाल को पत्र

आंदोलनकारियों ने "खून" से लिखा मुख्यमंत्री और राज्यपाल को पत्र

सिहोरा जिला आंदोलन का तेरहवाँ रविवार

अगले रविवार सिहोरा विधायक कार्यालय  के समक्ष होगा धरना

सिहोरा

 महामहिम राज्यपाल महोदय आपके नाम से जुलाई 2003 में जारी राजपत्र लागू कब होगा, क्या अब महामहिम राज्यपाल द्वारा जारी राजपत्रों को भी राजनीति की भेंट चढ़ाया जाएगा। खून से लिखे पत्र में यह बात सिहोरा को जिला बनाने की मांग कर रही "लक्ष्य जिला सिहोरा आंदोलन समिति" ने अपने तेरहवें रविवार के धरने में उठाई। समिति ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम भी खून से पत्र लिखा।समिति ने घोषणा की कि अगले रविवार 9 जनवरी को सिहोरा विधायक के कार्यालय के बाहर  धरना प्रदर्शन किया जाएगा।

क्या है पूरा मामला

 सिहोरा को जिला बनाने की सम्पूर्ण कागजी प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद 11 जुलाई 2003 को म प्र सरकार का राजपत्र जारी किया गया था।महामहिम राज्यपाल के नाम से एवं आदेशानुसार यह राजपत्र तत्कालीन अपर सचिव एन एस भटनागर ने जारी किया था। जारी राजपत्र में जबलपुर जिले की सिहोरा और मझौली सम्पूर्ण तहसील तथा कटनी जिले की बहोरीबंद और ढीमरखेड़ा तहसील के समाविष्ट से सिहोरा जिला का सृजन किया गया था।लंबे अंतराल 21 वर्ष गुजर जाने के बाद भी इस जारी राजपत्र पर अमल नही किया गया।

जनप्रतिनिधियों के घर पर होगा धरना प्रदर्शन

 लक्ष्य जिला सिहोरा आंदोलन समिति ने आरोप लगाया कि सिहोरा जिला न बन पाने की जितनी दोषी म प्र सरकार है उतनी ही दोषी स्थानीय जनप्रतिनिधि भी है। अब शीघ्र ही समिति का एक जत्था सिहोरा के इन जनप्रतिनिधियों के घर के समक्ष भी साथ साथ धरना प्रदर्शन करेगा।इस क्रम में अगले रविवार 9 जनवरी को सिहोरा विधायक कार्यालय के समक्ष धरना होगा। विदित हो कि इससे पूर्व आंदोलित समिति ने स्थानीय जनप्रतिनिधियों से सिहोरा जिला मुद्दे पर साथ आने का आह्वान किया था पर जनप्रतिनिधियों ने अपना अड़ियल रवैया जारी रखा।
         आज के खून से लिखे पत्र में होने वाले प्रदर्शन में समिति के विकास दुबे,मानस तिवारी,अनिल जैन,सियोल जैन,अमित बक्शी,प्रयास मिश्रा,सुखदेव कौरव,नंदकिशोर तंतुवाय,अजय शुक्ला,अनिल कुररिया,रामनरेश यादव,शरद सेठ,रामजी शुक्ला,ईश्वर शर्मा,विजय दुबे,नवनीत शुक्ला,रामलाल साहू,सुनील गौतम,अतुल बाजपेई, जाहिर खान,सुशील तिवारी,राजेश शर्मा,राजेन्द्र गर्ग,शिवम दुबे,विशाल दुबे,रत्नेश दुबे,रोहित पटेल,संजू रजक,हीराधर बड़गैंया सहित सैकड़ों की संख्या में आक्रोशित सिहोरावासी उपस्थित रहे।

Previous Post Next Post