Ticker

6/recent/ticker-posts

धान खरीदी की डेट बढ़ाने और दोबारा मैसेज छोड़ने भारतीय किसान यूनियन ने दिया धरना

धान खरीदी की डेट बढ़ाने और दोबारा मैसेज छोड़ने भारतीय किसान यूनियन ने दिया धरना


सिहोरा

समर्थन मूल्य पर धान की सरकारी खरीदी की 15 जनवरी आखिरी तिथि है, लेकिन बारिश होने के कारण अधिकतर किसानों की धान की तौल नही हो पाई। वहीं सरकार द्वारा बारदाना समय पर खरीदी केंद्रों में नहीं भेजे जाने के कारण कई किसानों के मैसेज एक्सपायर हो गए। धान खरीदी की तिथि बढ़ाने और मैसेज दोबारा छोड़े जाने की मांग को लेकर भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) ने शुक्रवार को सिहोरा बस स्टैंड में धरना दिया।

भारतीय किसान यूनियन के संभागीय अध्यक्ष संतोष राय ने बताया कि शासन द्वारा समर्थन मूल्य पर धान की सरकारी खरीद ही की अंतिम तिथि 15 जनवरी निर्धारित की गई थी लेकिन लगातार हो रही बारिश और बारदाने की कमी के चलते खरीदी केंद्रों में धान खरीदी का काम लगातार बिछड़ता गया। इसके साथ ही किसानों को खरीदी के लिए आने वाले मैसेज मिले तो जरूर, लेकिन बारदाना नहीं होने से उनके मैसेज एक्सपायर हो गए। विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों ने एक्सपायर हो चुके मैसेज को दोबारा किसानों को नहीं भेजा। किसानों की तुली हुई धान सोसायटी में पड़ी है। मैसेज तुरंत छोड़े जाए ताकि पीड़ित किसानों की धान पोर्टल पर चढ़ाई जा सके। होटल में चढ़ी हुई धान का भुगतान तुरंत किया जाए। रिजेक्शन में डाली गई। धान का तुरंत निराकरण किया जाए। धरना प्रदर्शन में भारतीय किसान यूनियन के जिला अध्यक्ष रमेश पटेल, भारतीय किसान संघ के नंदकुमार परोहा, सुनील जैन, छोटे पटेल, आनंद पटेल, विवेक पटेल, राम राज पटेल, ओम प्रकाश पटेल, सुमित राय, सुरेंद्र पटेल के साथ अन्य किसान संगठनों के पदाधिकारी शामिल थे। किसान संगठनों ने चेतावनी दी कि यदि समय सीमा के अंदर तुली हुई धान पोर्टल पर नहीं चढ़ाई गई तो अनिश्चितकालीन धरना दिया जाएगा।