बगैर नीव के भवन बना रहा शिक्षा विभाग , प्राथमिक शिक्षा को कमतर मान रहा शिक्षा विभाग

बगैर नीव के भवन बना रहा शिक्षा विभाग , प्राथमिक शिक्षा को कमतर मान रहा शिक्षा विभाग

सिहोरा

मध्यप्रदेश शासकीय अध्यापक संगठन में जारी विज्ञप्ति में बताया कि आयुक्त लोक शिक्षण द्वारा दिनांक 4 जनवरी को एक आदेश जारी किया गया जिसमें बताया गया है कि एकीकृत समस्त विद्यालय  जिसमें छठी से दसवीं तक के कुल 6 शिक्षक होंगे , जबकि पहले छठवीं से आठवीं तक न्यूनतम 3 शिक्षक और नौवीं और दसवीं में विषय मानसे 6 शिक्षक कम से कम होते थे । इससे प्रतीत होता है कि सिर्फ  नवमी से दसवीं की पढ़ाई होगी छठवी  से आठवीं के लिए जब शिक्षक ही नहीं होंगे तो कहां से कौन  आएगा और पढ़ाई कराएगा।  आयुक्त लोक शिक्षण का यह तुगलकी आदेश ठीक बिना नींव के मकान बनाने जैसा है। जब प्राथमिक शिक्षा ही कमजोर होगी तो हाई स्कूल में बच्चे या तो पढ़ाई छोड़ देंगे या भविष्य में फेल हो जाएंगे । मध्यप्रदेश शासकीय अध्यापक संगठन इस आदेश का  सरासर विरोध करता है यह आदेश तत्काल वापस लिया जाना चाहिए । मध्यप्रदेश शासकीय अध्यापक संगठन हमेशा कहता आया है कि , प्रदेश के आला अधिकारी प्रशासन को बदनाम करने की हर संभव कोशिश करते हैं , उसका यह एक ताजा उदाहरण है । माननीय मुख्यमंत्री से हस्तक्षेप कर  तत्काल यह आदेश वापस लेने की मांग  मध्यप्रदेश शासकीय अध्यापक संगठन के प्रांत अध्यक्ष राकेश दुबे आरिफ अंजुम , मुकेश सिंह अजय सिंह ठाकुर आदि  ने की है ।
Previous Post Next Post