Ticker

6/recent/ticker-posts

भव्य कलश यात्रा के साथ 77वें श्री लक्ष्मी-नृसिंह यज्ञ का शुभारंभ

भव्य कलश यात्रा के साथ 77वें श्री लक्ष्मी-नृसिंह यज्ञ का शुभारंभ
नृसिंह टेकरी खितौला में सप्त दिवसीय आयोजन, संतों के सानिध्य में सर्व प्रशिक्षित पंचांग पूजन और हुआ मंडप प्रवेश

सिहोरा 

नृसिंह टेकरी खितौला खितौला स्थित श्री नृसिंह मंदिर में श्री लक्ष्मी-नृसिंह महायज्ञ के अवसर पर सोमवार को भव्य कलश यात्रा निकली। मंदिर प्रांगण से संध्या कालीन बेला में धार्मिक धुनों के बीच जय लक्ष्मी-नृसिंह के उद्घोष के साथ श्रद्धालु भक्तजन हिरण नदी के पवित्र तट पर पहुंचे। मंदिर के महंत गोविंद दास महाराज के सानिध्य में पवित्र हिरण नदी के जल को पूजन अर्चन के साथ कलश में भरा गया।

 हिरण नदी के पवित्र जल को मिट्टी के कलश में धारण किए महिलाएं हिरण नदी के तट से मंदिर प्रांगण की ओर बढ़ी। शंख, घंटा और बैंड बाजों की धार्मिक धुनों के बीच भव्य कलश यात्रा देखते ही बन रही थी। भारी संख्या में श्रद्धालु कलश यात्रा में शामिल हुए और अपने आपको धन्य किया। नृसिंह मंदिर में सप्त दिवसीय इस आयोजन की शुरुआत सन 1925 में भगवान श्री नृसिंह की प्राण प्रतिष्ठा के साथ हुई थी, तभी से प्रतिवर्ष इस महायज्ञ का आयोजन फाल्गुन कृष्ण पक्ष की पंचमी से त्रयोदशी तक होता है। इस वर्ष यज्ञ का 77वां आयोजन है। हिरण नदी के पवित्र जल के मंदिर में पहुंचने पर सर्व प्रचित पंचांग पूजन और मंडप प्रवेश के साथ भव्य महायज्ञ की शुरुआत हो गई। मंगलवार को देवताओं का आवाहन और पूजन। बुधवार को अरणी मंथन के साथ यज्ञ प्रारंभ हो जाएगा। गुरुवार से नित्य प्रति हवन एवं पूजन के साथ सोमवार को पूर्णाहुति एवं भंडारे का आयोजन होगा।