बिना डिग्री के हो रहा था मरीजों का इलाज, खोल रखा था कलेक्शन सेंटर

बिना डिग्री के हो रहा था मरीजों का इलाज, खोल रखा था कलेक्शन सेंटर

खितौला बाजार स्थित डॉ जी सी मोटवानी के दवाखाने पर स्वास्थ्य विभाग के अमले की दबिश 

मौके पर डॉक्टर नहीं दिखा पाया कोई भी वैध दस्तावेज, स्वास्थ्य अमले ने जारी किया नोटिस

सिहोरा

सिहोरा तहसील में बड़े पैमाने पर झोलाछाप डॉक्टर बिना डिग्री और अनुभव के मरीजों की जान से खिलवाड़ कर रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के अमले ने शनिवार को खितौला बाजार स्थित एक क्लीनिक पर छापा मारा। छापे के दौरान क्लीनिक में मौजूद डॉक्टर स्वास्थ्य विभाग के अमले को कोई भी डिग्री के वैध दस्तावेज नहीं दिखा पाया। स्वास्थ्य विभाग के अमले ने संबंधित क्लीनिक के डॉक्टर को नोटिस जारी करते हुए सोमवार को सारे दस्तावेज पेश करने के निर्देश दिए। दस्तावेज सही नहीं पाए जाने पर संबंधित डॉक्टर के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

  ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर दीपक गायकवाड के मुताबिक खितौला बाजार स्थित डॉक्टर जीसी मोटवानी के दवाखाने में सिहोरा सिविल हॉस्पिटल के प्रभारी डॉ आर्यन तिवारी के साथ दोपहर में दबिश दी। दवाखाने में मरीजों की जांच के साथ उन्हें दवाइयां और निडिल भी चढ़ाई जा रही थी। कार्रवाई के दौरान स्वास्थ्य विभाग के अमले ने डाक्टर जीसी मोटवानी से इलाज के वैध दस्तावेज प्रस्तुत करने के लिए कहा लेकिन डॉक्टर मौके पर कोई भी दस्तावेज पेश नहीं कर पाए।


खोल रखा था पैथोलॉजी का कलेक्शन सेंटर, दी जा रही थी अंग्रेजी दवाइयां

बीएमओ के मुताबिक दवाखाने में पैथोलॉजी का कलेक्शन सेंटर बाकायदा खोल कर रखा गया था जहां मरीजों के खून के जांच के नमूने भी रखे हुए थे। इसके साथ ही अंग्रेजी दवाइयां मरीजों को दी जा रही थी। सूत्रों की माने तो संबंधित दवाखाने के चिकित्सक मरीजों को बकायदा देखते भी हैं उनकी जांच भी करते हैं और अंग्रेजी दवाइयां भी लिखते हैं। फिलहाल मौके पर डॉक्टर ने इलाज की किसी भी पद्धति के वैध दस्तावेज पेश नहीं किए। 

सोमवार तक दस्तावेज पेश करने के दिए निर्देश

बीएमओ डॉ गायकवाड़ ने बताया कि संबंधित डॉक्टर को अपनी क्लीनिक, पैथोलॉजी  के वैध दस्तावेज पेश करने को कहा गया है। मौके पर स्वास्थ्य विभाग के अमले ने बाकायदा पंचनामा तैयार किया। संबंधित जांच प्रतिवेदन एसडीएम सिहोरा और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जबलपुर को भेजा जाएगा दस्तावेज सही नहीं पाए जाने पर संबंधित चिकित्सक के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। 


इनका कहना

डॉक्टर जीसी मोटवानी के क्लीनिक में जांच करने के दौरान डॉक्टर द्वारा कोई भी वैध दस्तावेज प्रस्तुत नहीं किए गए। इसके अलावा उनके द्वारा पैथोलॉजी सेंटर भी संचालित किया जा रहा था साथ ही मरीजों को दवाई भी देने की बात सामने आई है। जांच प्रतिवेदन एसडीएम सिहोरा और मुख्य चिकित्सा अधिकारी को भेजा जाएगा। संबंधित चिकित्सक के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।


डॉक्टर दीपक गायकवाड,ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर सिहोरा
Previous Post Next Post