Ticker

6/recent/ticker-posts

किसानों को महज मिल रही पांच घंटे बिजलीगेहूं की फसल हो रही प्रभावित, मुरझा फसलेंअधिकारी कर रहे अनसुनी

किसानों को महज मिल रही पांच  घंटे बिजली
गेहूं की फसल हो रही प्रभावित, मुरझा फसलें
अधिकारी कर रहे अनसुनी
सिहोरा

 सिहोरा तहसील के अंतर्गत स्थापित गोसलपुर विद्युत वितरण केंद्र के लखनपुर फीडर के अंतर्गत धरमपुरा घोराकोनी के अनेक कृषकों ने बताया की पिछले कई हफ्ते से किसानों को दिन रात मे कुल मिलाकर बडी मुश्किल से महज पांच घंटे बिजली मिल पा रही है,
जिससे उनकी गेहूं की सिंचाई का काम नहीं हो पा रहा है।खेत मे लगी गेहूं की फसलें मुरझा रही है।


किसान धमेन्द्र विशवकर्मा, इंद्रकुमार पटैल, बृजकिशोर यादव, लखन लाल साहू,  भारत दुबे, खिलाडी कुम्हार, लटोरी साहू, हरनाम पटेल, राजकुमार चौधरी, चन्नीलाल साहू, कैलाश गोटिया ने बताया की जहां एक ओर सरकार किसानों को दस घंटे बिजली देने का दावा करती है।वहीं स्थानीय लाइनमैन व जवाबदार अधिकारियों के कुप्रबंधन के चलते किसानों को पर्याप्त बिजली नहीं मिल पा रही है। दिन की शिफ्ट में मात्र तीन से चार घंटे बिजली मिल पा रही है।रात में बिल्कुल भी नहीं मिल रही है।

सीएम हेल्पलाइन सहित अधिकारियों से शिकायत नतीजा सिफर

ज्ञात हो की किसानों को अभी वर्तमान में गेहूं की फसल में सिंचाई की अति आवश्यकता है और ऐसे ही महत्वपूर्ण सीजन में विद्युत मंडल द्वारा किसानों को गेहूं की फसल की सिंचाई हेतु बिजली में कटौती की जा रही है। जिससे किसानों के मन में खासा रोष व्याप्त है। किसानों ने चर्चा के दौरान बताया की पर्याप्त बिजली न मिलने की शिकायत विद्युत हेल्पलाइन सीएम हेल्पलाइन व विद्युत मंडल के आला अधिकारियों से लेकर जनप्रतिनिधियों तक गुहार लगाई जा चुकी है।परंतु नतीजा सिफर रहा। 

लाइनमैन फोन नहीं करते रिसीव बिजली कंपनी के प्रबंध निदेशक को सौंपेंगे मांग पत्र

ज्ञात हो की इस संबंध में शीघ्र ही किसानों का एक प्रतिनिधि मंडल मध्य प्रदेश पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध निदेशक से मिलकर विद्युत मंडल के द्वारा की जा रही अघोषित कटौती के संबंध में शिकायत पत्र सोपेगा। किसानों का कहना है की स्थानीय लाइनमेनो द्वारा फोन रिसीव नही किया जाता एवं संतोषजनक जवाब भी नहीं दिया जाता जिससे किसान पावर हाउस एवं विद्युत मंडल कार्यालय के चक्कर काट रहा है किसानों की खेतों में लहलहा रही फसलें समय पर सिंचाई न होने के कारण मुरझा रही हैं और जवाबदार अधिकारी अनजान बने हैं।