Ticker

6/recent/ticker-posts

चारागाह मद की भूमि को कब्जा मुक्त कर नियम विरुद्ध प्रशासन ने दे दिया खनिज कंपनी को !

चारागाह मद की भूमि को कब्जा मुक्त कर नियम विरुद्ध प्रशासन ने दे दिया खनिज कंपनी को !

शिकायत ज्ञापन के 21 दिन बाद भी प्रशासन मामले की पूरी नहीं कर पाया जांच

ग्राम पंचायत टिकरिया नवीन के ग्राम जीटी का मामला : किसान समाज संगठन के पदाधिकारियों ने ने किया प्रदर्शन, शासन पर लगाया सांठगांठ का आरोप

सिहोरा 

ग्रामीण क्षेत्रों में वैसे भी चरागाह की भूमि बची नहीं। वहीं दूसरी तरफ प्रशासन ने चरागाह की भूमि को कब्जा मुक्त तो करा दिया लेकिन सांठगांठ कर संबंधित जमीन को डंपिंग के लिए दे दिया। यह आरोप के साथ समाज संगठन के पदाधिकारियों ने ग्राम झींटी में प्रदर्शन के दौरान लगाए। किसान समाज संगठन के पदाधिकारियों ने आरोप लगाया की खनिज कंपनी को प्रशासन ने संबंधित चारागाह की जमीन लीज पर दी है या नहीं इस मामले की जांच के लिए 21 दिन पहले (7 फरवरी) ज्ञापन दिया गया था, लेकिन अभी तक प्रशासन इस मामले की जांच पूरी नहीं कर पाया। इससे साफ पता चलता है कि पूरी सांठगांठ के तहत संबंधित खनिज कंपनी को जमीन खनिज की डंपिंग के लिए दे दी गई है। किसान समाज संगठन के पदाधिकारियों ने आरोप लगाया कि पूरे मामले में प्रशासन लीपापोती में लगा हुआ है। बिना लीज सैंक्शन हुए आखिर प्रशासन ने कब्जा मुक्त की हुई इतनी बेशकीमती जमीन पैसेफिक आयरन ओर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को डंपिंग के लिए कैसे दे दी। पूरा मामला प्रशासन ने सेट कर लिया है। इसी के तहत जमीन खनिज के डंपिंग के लिए रातों रात दे दी गई। मामले की जांच में भी प्रशासनिक अधिकारी पूरी तरह हीला हवाली कर रहे हैं और जवाब देने में आनाकानी कर रहे हैं।

ये है पूरा मामला
किसान समाज संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष दीवान जीतेंद्र सचिव अकलश शारदानंद गौ सेवा समिति के सदस्य संतोष वर्मा ने बताया कि सिहोरा तहसील की ग्राम पंचायत ठिकरिया नवीन के ग्राम झींटी के अंतर्गत खसरा क्रमांक 461 के 3.24 हेक्टेयर (लगभग 8 एकड़) भूमि शासकीय रिकॉर्ड में मध्यप्रदेश शासन चारागाह में दर्ज है। उक्त भूमि को प्रशासन ने कब्जा धारी से मुक्त तो करा दिया, लेकिन पेसिफिक प्राइवेट लिमिटेड खनिज प्लांट को संबंधित जमीन दे दी गई। संबंधित कंपनी को क्या लीज पर यह जमीन उपलब्ध कराई है प्रशासन ने इस मांग को लेकर किसान समाज संगठन ने अनुविभागीय अधिकारी को ज्ञापन सौंपा था। लेकिन 21 दिन बाद भी प्रशासन ना तो इसकी जांच कर पाया और ना ही इस मामले को लेकर कोई जानकारी संगठन को दी गई।

पूरे मामले की लीपापोती में लगा प्रशासन

किसान समाज संगठन के पदाधिकारियों ने ग्राम झींटी में ग्रामीणों के साथ मिलकर जमकर प्रदर्शन किया। दर्शन की खबर लगते ही सिहोरा, मझगवां और गोसलपुर थाने का पुलिस बल मौके पर पहुंचा। 


क्या कहते हैं जिम्मेदार

ग्राम झींटी में संबंधित चरागाह की भूमि की जांच की शिकायत ज्ञापन के माध्यम से मिली है। अभी इसकी जांच पूरी नहीं हुई है जांच पूरी होने के मामले की जांच रिपोर्ट एसडीएम सिहोरा को दी जाएगी। 

राहुल मेश्राम, नायब तहसीलदार सिहोरा