दस्तावेजों की जांच किए बिना किसी और की भूमि पर स्वीकृत कर दिया पीएम आवास

दस्तावेजों की जांच किए बिना किसी और की भूमि पर स्वीकृत कर दिया पीएम आवास

नगर परिषद मझौली का मामला :  पूर्व आवास प्रभारी का कारनामा, जांच के नाम पर अधिकारी सिर्फ कर रहे लीपापोती

मझौली

प्रधानमंत्री आवास के नाम पर किस तरह से भ्रष्टाचार किया जा रहा है इसकी बानगी का प्रत्यक्ष उदाहरण नगर परिषद मझौली वार्ड क्रमांक 13 का देखा जा सकता है। नगर परिषद मझौली के प्रधानमंत्री आवास के प्रभारी बेनी प्रसाद पटेल के द्वारा बिना दस्तावेजों के  जांच किये बिना  किसी अन्य की भूमि पर प्रधानमंत्री आवास स्वीकृत कर दिया गया। भूमि स्वामी सुरेंद्र कुमार चौबे के द्वारा बताया गया कि वार्ड क्रमांक 13 सुहजनी तिराहा खसरा नंबर 448/17 रखवा 0.026 मझौली में स्थित है, जो उनके नाम पर दर्ज है। इसके विपरीत नगर परिषद मझौली के प्रधानमंत्री आवास के प्रभारी बेनी प्रसाद पटेल के द्वारा इसी खसरे पर ब्रह्मानंद साहू पिता ईश्वरी प्रसाद साहू वार्ड नंबर 13 प्रधानमंत्री आवास स्वीकृत कर दिया गया और आवास की प्रथम किस्त ₹100000 की राशि भी ब्रह्मानंद खाते में पहुंचा दी गई। 

पीड़ित ने मुख्य नगरपालिका अधिकारी को दी लिखित जानकारी

उक्त मामले की जानकारी लगते ही भूमि स्वामी सुरेंद्र कुमार चौबे महेंद्र कुमार के द्वारा मुख्य नगरपालिका अधिकारी महोदय को पत्र लिखकर जानकारी दी गई कि उक्त भूमि उनके नाम पर दर्ज है और जो आवाज ब्रह्मानंद ईश्वरी प्रसाद के नाम से स्वीकृत  किया गया है वह गलत है।  उसके खाते से पैसे की वसूली होना आवश्यक है। कार्रवाई के नाम पर नगर परिषद मझौली के द्वारा 20 जुलाई 2020 को ब्रह्मानंद पिता ईश्वरी प्रसाद के खिलाफ वसूली का नोटिस जारी किया गया, परंतु 2 वर्ष बीत जाने के बाद भी ब्रह्मानंद से उक्त राशि की न ही कोई वसूली की गई न ही कोई उचित कार्यवाही।  

टालमटोल करते रहे नहीं दे सके उचित जवाब

इस मामले को लेकर प्रधानमंत्री आवास के  पूर्व प्रभारी बेनी प्रसाद पटेल से  जानकारी चाही गई तो वह कोई उचित जवाब देने में असमर्थ नजर आए।
Previous Post Next Post