Ticker

6/recent/ticker-posts

बरने नदी में हो रहा रेत का खुलेआम उत्खनन और परिवहन

बरने नदी में हो रहा रेत का खुलेआम उत्खनन और परिवहन

मझगवां पुलिस और बीट प्रभारी का रेत माफियाओं को खुला संरक्षण : कटरा रमखिरिया गांव का है पूरा मामला, ट्रैक्टर और हाईवा लगाकर छलनी कर रही नदी को

मझगवां 

सरकार ने रेत के सरकारी ठेके तो खत्म कर दिए हैं, इसके बावजूद ग्रामीण क्षेत्रों में खुलेआम रेत का अवैध उत्खनन और परिवहन हो रहा है । ताजा मामला मझगवां क्षेत्र की बरने नदी का है, जहां रेत माफिया ट्रैक्टर ट्रॉली और डंपर से खुलेआम रेत का अवैध खनन करने में लगे हैं। आरोप है कि इस अवैध उत्खनन के खेल में मझगवां थाना पुलिस और इस क्षेत्र के बीट प्रभारी का खुला संरक्षण है। जिसके चलते रेत माफिया दिन के समय खुलेआम रेत निकाल रहे हैं। आम लोगों द्वारा जब पुलिस को रेत के अवैध उत्खनन की सूचना दी जाती है। इसके पहले ही माफिया अपने वाहन लेकर वहां से रफूचक्कर हो जाते हैं। जो साफ-साफ बताता है कि रेत माफिया को पुलिस के द्वारा ही जब इसकी सूचना दे दी जाती है। 

छलनी करने पर उतारू बरने नदी को रेत माफिया

जानकारी के मुताबिक कटरा रमखिरिया गांव में बरने नदी के पास बने पुल पर सूखी नदी से खुलेआम ट्रैक्टर ट्रॉली और डंपर लगाकर बाकायदा माफिया रेत का उत्खनन कर रहे हैं। एक व्यक्ति द्वारा इसकी सूचना जब मझगवां पुलिस को दी गई तो पुलिस के पहुंचने से पहले ही माफिया ट्रैक्टर ट्रॉली और डंपर लेकर वहां से फरार हो गए। जो साफ-साफ दर्शाता है कि पुलिस ही रेत माफिया को कार्रवाई की जानकारी पहले से दे देती है। सूत्रों की मानें तो इसके एवज में पुलिस को मोटी रकम रेत माफिया देते हैं। 

बीट प्रभारी और पुलिस रेत से भरी ट्रैक्टरों से कर रही वसूली

सूत्रों की माने तो पुलिस को बरने नदी और उसके आसपास के क्षेत्र में हो रहे रेत के अवैध उत्खनन की पूरी जानकारी रहती है। पुलिस सिर्फ रेत से भरे ट्रैक्टर से अवैध वसूली के काम में लगी रहती है। उसे इस बात से कोई सरोकार नहीं रहता कि रेत माफिया शासन को अवैध उत्खनन कर लंबा चूना लगा रहे हैं। वैसे भी मझगवां क्षेत्र में हिरण नदी में भी रेत का अवैध उत्खनन खुलेआम चल रहा है। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को इतनी फुर्सत ही नहीं कि अवैध उत्खनन करने वाले माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई करे। 


थाने में भी हो रही है लंबी सेटिंग, छूट जाते हैं रेत से भरे वाहन

सूत्रों की मानें तो मझगवां थाने में भी रेत माफिया लंबी सेटिंग कर लेते हैं। संबंधित बीट प्रभारी को मोटी रकम देकर रेत से लदे ट्रैक्टर सहित दूसरे वाहनों को चुपचाप रातों-रात छुड़ा लिया जाता है। इस खेल में हर किसी का हिस्सा बटा हुआ है। रास्ते में अगर कोई रेत से भरा ट्रैक्टर मिल गया तो उसे थाने में खड़ा करवा दिया और बाद में लंबी रकम लेकर उसे चुपचाप छोड़ दिया जाता है।

इनका कहना
कटरा रमखिरया गांव में बरने नदी में रेत माफियाओं के खिलाफ जल्द कार्यवाई की जाएगी। नदी से रेत निकलने की सूचना कोई भी ग्रामीण दे सकता है। पुलिस तत्काल कार्यवाई करेगी। 

कप्तान सिंह, एसआई मझगवां थाना