Ticker

6/recent/ticker-posts

गेहूं के रजिस्ट्रेशन में फर्जीवाड़ा

गेहूं के रजिस्ट्रेशन में फर्जीवाड़ा

 किसान के फर्जी हस्ताक्षर कर बिचौलिए ने बनवा लिया सिकमीनामा

कियोस्क सेंटर में ऑनलाइन गेहूं का रजिस्ट्रेशन कराने पहुंचा किसान तब हुआ पूरे मामले का खुलासा

मझौली तहसीलदार को किसान ने दी शिकायत, कार्रवाई की मांग

मझौली
समर्थन मूल्य गेहूं की सरकारी खरीदी में किसान के फर्जी हस्ताक्षर बिचौलिए ने सिकमीनामा बना लिया। इतना ही नहीं बिचौलिए ने किसान के नाम से गेहूं का फर्जी रजिस्ट्रेशन भी करवा लिया। पूरे मामले का खुलासा तब हुआ जब संबंधित किसान क्योस्क सेंटर में गेहूं खरीदी के लिए रजिस्ट्रेशन कराने के लिए पहुंचा। जहां उसे पता चला कि उसकी जमीन का सिकमीनामा तैयार कर रजिस्ट्रेशन भी करा लिया गया है। पूरा मामला मझौली तहसील का है। किसान ने इस मामले को लेकर तहसीलदार को लिखित शिकायत दी है। बिचौलिए के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई की मांग की है।
 किसान मंत्री लाल काछी उर्फ इमरततलाल निवासी लड़ोई की कृषि भूमि ग्राम लड़ोई में है। सोमवार को जब वह अपने भूमि का गेहूं पंजीयन कराने के लिए एमपी ऑनलाइन किओस्क सेंटर पहुंचे तो उन्हें जानकारी लगी कि उनकी भूमि का पंजीयन पूर्व में ही करा लिया गया है। किसान यह बात सुनकर अचंभित रह गया कि उसके द्वारा किसी भी व्यक्ति के नाम पर सिकमीनामा नहीं लिखा गया है। किसान का फर्जी रजिस्ट्रेशन सेवा  सहकारी संस्था मझौली में जितेंद्र सोनकर पिता तुलसीराम सोनकर निवासी मझौली  के द्वारा फर्जी तरीके से करा लिया गया।

500 रुपए का लगाया नोटरी स्टाम्प, किसान के फर्जी दस्तखत

बिचौलिए ने ₹500 का स्टांप नोटरी सहित लगाया गया है, परंतु उसमें किसान इमरतलाल के हस्ताक्षर फर्जी है। इस बात की पुष्टि स्वयं किसान अमृतलाल ने की है। किसान अमृतलाल ने बताया कि उनकी खसरा नंबर 153, 154 कुल रकबा 1.12 हेक्टेयर भूमि है। जिसका पंजीयन बिना बताए सिकमीनामा बनवाकर फर्जी तरीके से कर लिया गया है। उक्त उक्त मामले की जानकारी मझौली तहसीलदार प्रदीप मिश्रा को दी गई है उनके द्वारा उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया गया है। 
क्या कहते हैं जिम्मेदार

लड़ोई के किसान ने उसकी जमीन का फर्जी तरीके से सिकमीनामा और दस्तखत कर गेहूं के रजिस्ट्रेशन किए जाने की शिकायत की है। संबंधित किसान की शिकायत पर मामले की जांच की जाएगी और उसमें जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ एफ आई आर दर्ज की जाएगी।


प्रदीप मिश्रा, तहसीलदार मझौली