जन सहयोग से बदली हिरण नदी के खितौला घाट की तस्वीर

जन सहयोग से बदली हिरण नदी के खितौला घाट की तस्वीर
26 फरवरी से लगातार चल रहा है हिरण नदी के जीर्णोद्धार का काम

सिहोरा

सिहोरा अंचल की जीवन रेखा पुण्य सलिला हिरण नदी के खितौला के घाट की की तस्वीर प्रशासन के आह्वान पर जन सहयोग से पूरी तरह बदल गई। मिट्टी के कटाव के कारण वर्षों पुराना क्षतिग्रस्त घाट जो गंदगी से पटा पड़ा था वह पूरी तरह साफ हो चुका है। 26 फरवरी से शुरू हुआ हिरण नदी के जीर्णोद्धार का काम लगातार चल रहा है। प्रशासन के एक आह्वान पर सिहोरा-खितौला के समाजसेवियों आमजन और दानदाताओं ने जेसीबी ट्रैक्टर हाईवा डंपर के साथ सहयोग राशि जुटाकर हिरण नदी की तस्वीर बदल दी है। घाटों की साफ-सफाई और मिट्टी को हटाने के बाद अब हिरण नदी के मलबे को निकालने का काम लगातार चल रहा है। 
समाजसेवी और आम जनों का यह प्रण है कि जब तक हिरण नदी के खितौला घाट को पूरी तरह साफ स्वच्छ निर्मल नहीं कर दिया जाता तब तक यह अभियान लगातार जारी रहेगा। मालूम रहे कि हिरण नदी के खितौला घाट पर मिट्टी और कचरे के कारण लगातार हिरण नदी का बहाव कम हो रहा था वही पूजन पाठ करने आने वाले श्रद्धालु और भक्तों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। इसके साथ ही गर्मी के समय खितौला फिल्ट्रेशन प्लांट में पानी की कमी हो जाती थी। ऐसे में प्रशासनिक अधिकारियों एसडीएम आशीष पांडे मुख्य नगरपालिका अधिकारी जय श्री चौहान से आम लोगों समाजसेवियों ने घाट की साफ-सफाई और मिट्टी को जेसीबी से हटाने की मांग की थी। अधिकारियों ने जन सहयोग से हिरण नदी की साफ-सफाई कर जीर्णोद्धार के लिए सभी से सहयोग की बात की थी। कांग्रेस के पूर्व पार्षद बिहारी पटेल, एम मंसूर, राजेंद्र दुबे, राजेश ठाकुर, बेटू शर्मा के अलावा समाजसेवियों दानदाताओं द्वारा जन सहयोग और श्रमदान किया गया जिसके चलते अब हिरण नदी खितौला की तस्वीर पूरी तरह बदल चुकी है।
Previous Post Next Post