सिहोरा अस्पताल की साफ-सफाई और दूसरी अव्यवस्थाओं को देखकर भड़के कलेक्टर

सिहोरा अस्पताल की साफ-सफाई और दूसरी अव्यवस्थाओं को देखकर भड़के कलेक्टर
बोले इतना अव्यवस्थित अस्पताल आज तक नहीं देखा

सिहोरा

कलेक्टर इलैयाराजा टी ने रविवार को सिविल अस्पताल सिहोरा का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान वहां कि व्यवस्थाओं को देखकर उन्होंने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि आज तक इतने अव्यवस्थित अस्पताल नहीं देखा। अस्पताल में 12 डॉक्टर्स में से मात्र एक डॉक्टर उपस्थित मिले, जिन्हें मरीजों के बारे में पता ही नहीं था। गायनिक वार्ड में डॉक्टर नहीं होने पर संबंधित डॉक्टर को फोन भी लगाया गया किन्तु उन्होंने फोन अटेंड ही नहीं किया।
एनआरसी में भर्ती बच्चे को 5 दिन से आ रहा था बुखार, नहीं मिल रहा था इलाज डॉक्टर को जारी किया नोटिस

 निरीक्षण के दौरान कलेक्टर के संज्ञान में यह बात सामने आई की डिलेवरी के बाद जच्चा-बच्चा को जल्दी ही डिस्चार्ज कर दिया जाता है। कलेक्टर ने कहा कि कम से कम 72 घंटे अस्पताल में उनकी देख-रेख होनी चाहिए। उन्हें 3 दिन के पहले डिस्चार्ज न करें। एनआरसी में बच्चों की देखभाल नहीं होने पर भी कलेक्टर ने शिशु रोग चिकित्सक को फोन लगवाया किन्तु वे लगातार दो दिन अनुपस्थित मिले व फोन ही अटेंड नहीं किये, जिस पर कलेक्टर ने सीएमएचओ, बीएमओ व सीएस को फोन लगाकर कहा कि तत्काल एनआरसी की व्यवस्था सुधारें। एनआरसी में भर्ती एक बच्चा जिसे लगातार 5 दिन से बुखार आ रहा है फिर भी उसके समुचित इलाज नहीं होने पर कलेक्टर ने संबंधित डॉक्टर को नोटिस देने के साथ उसके एक दिन का वेतन भी काटा। कलेक्टर ने एनआरसी में बच्चों के नाप व वजन भी कराये साथ ही बच्चों की मां से स्वास्थ्य संबंधी आवश्यक बात भी की। 
साफ सफाई और पेयजल की समुचित व्यवस्था नहीं सुधार के दिए निर्देश

एनआरसी व अस्पताल के छतों में मधुमक्खियों के बड़े-बड़े छत्तों को देखकर कहा कि बच्चों को तत्काल शिफ्ट कर मधुमक्खियों के छत्तों को हटायें। अस्पताल के निरीक्षण के दौरान समुचित पेयजल व साफ-सफाई नहीं होने पर शीघ्र व्यवस्था सुधारने को कहा। भ्रमण के दौरान अनुपस्थित बीएमओ को बुलाकर तत्काल व्यवस्था सुधारने के निर्देश देते हुए कहा कि अस्पताल के आसपास गंदगी के ढेर व कचरे को तत्काल साफ करायें, अस्पताल की पुताई एक हफ्ते में कर लें, और कल तक अस्पताल परिसर साफ-सफाई कर उन्हें फोटो भेजें। 
सीएमएचओ और सीएस को लगाया फोन बोले अस्पताल की व्यवस्था तत्काल सुधारें

कलेक्टर ने सीएमएचओ व सीएस को फोन लगाकर कहा कि सिविल अस्पताल सिहोरा की व्यवस्था तत्काल सुधारें। डॉक्टर नियमित रूप से समय पर उपस्थित रहें और प्राथमिकता से मरीजों का उपचार करें। अस्पताल परिसर में स्थित पुराने भवन को तत्काल डिस्मेंटल कर वहां से मलबा हटाकर परिसर को स्वच्छ व सुंदर बनायें। अस्पताल परिसर में किये गये अतिक्रमण को भी तत्काल हटाने को कहा। साथ ही एक प्रायवेट मकान से गंदे पानी के अस्पताल परिसर में आने पर उसे नोटिस देने को कहा। इतना ही नहीं अस्पताल में ऊगे वृक्षों को भी हटाने को कहा। बायोमेडिकल बेस्ट व अन्य कचरा का प्रबंधन व्यवस्थित रूप से करने के निर्देश दिये। निरीक्षण के दौरान शिशु रोग चिकित्सक की अनुपस्थिति पर उन्होंने नाराजगी जाहिर की बड़ी मुश्किल से बुलाने पर जब वह उपस्थित हुए तब उन्हें नाराजगी के साथ आवश्यक निर्देश के साथ नोटिस दिये और अस्पताल के पास में ही उनके द्वारा क्लीनिक खोले जाने पर बीएमओ से स्पष्टीकरण भी मांगा। कलेक्टर ने कहा कि अस्पताल के पास ही शासकीय अस्पताल के डॉक्टर अपना क्लीनिक किस आधार पर खोले इसका समुचित उत्तर उन्हें प्रस्तुत करें। निरीक्षण के दौरान कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा ने एसडीएम श्री आशीष पांडे से कहा कि नियमित रूप से अस्पताल का भ्रमण कर व्यवस्थाओं को सुधारें और वे स्वयं ही निरीक्षण के लिए अचानक अस्पताल जायेंगे।
Previous Post Next Post