मुख्यमंत्री से रूबरू हो उठाई सिहोरा जिले की मांग,अब मुख्यमंत्री के निर्णय का इंतजार

मुख्यमंत्री से रूबरू हो उठाई सिहोरा जिले की मांग,अब मुख्यमंत्री के निर्णय का इंतजार
17 मई को विशाल रैली की घोषणा

सिहोरा जिला आंदोलन का सत्ताईसवाँ रविवार

सिहोरा

मुख्यमंत्री के कटनी जिले के स्लीमनाबाद आगमन पर उनसे रूबरू हो ज्ञापन के माध्यम से सिहोरा जिला की मांग कर चुकी लक्ष्य जिला सिहोरा आंदोलन समिति ने घोषणा की कि अब वे आगामी एक माह तक मुख्यमंत्री के फैसले की प्रतीक्षा करेंगे।अगर अगले एक माह के अंदर मुख्यमंत्री जी द्वारा सिहोरा को जिला नही बनाया जाता तो आगामी 17 मई को अपनी मांग के समर्थन में एक विशाल रैली निकाली जाएगी।सिहोरा जिला की मांग पर समिति द्वारा रविवार को सत्ताईसवाँ धरना प्रदर्शन किया गया।

17 मई को रैली क्यों?

लक्ष्य जिला सिहोरा आंदोलन समिति ने दावा किया कि 17 मई 1867 को सिहोरा नगरपालिका बनाई गई थी।17 मई 1867 सिहोरा का स्थापना दिवस है।जिले की मांग को लेकर विशाल रैली भी सिहोरा के स्थापना दिवस के दिन ही निकाली जाएगी।इस रैली में सिहोरा के प्रत्येक व्यापारी,आमजन,सामाजिक संगठन और सिहोरा में जन्मे वे छात्र जिनकी शिक्षा सिहोरा में हुई और आज वे देश के अनेक शहरों में किसी भी प्रकार के कार्य मे लगे है को मातृभूमि के सम्मान का हवाला दे रैली में शामिल होने का आह्वान किया जाएगा।

आगे आने का समय

 समिति के मानस तिवारी ने अपने भाषण में कहा कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में ही सिहोरा जिला की सौगात प्राप्त करने को अब 15 माह ही शेष है ऐसे समय सिहोरा के सम्मान में सिहोरा विधायक सहित सभी जिम्मेदार जनप्रतिनिधियों को आगे आना चाहिये।समिति के अमित बक्शी ने कहा कि प्रत्येक नागरिक पर उसकी जन्मभूमि और कर्मभूमि का ऋण होता है और सिहोरा में जन्म लिए प्रत्येक व्यक्ति को इस समय सिहोरा के सम्मान में आगे आना चाहिए
      जिला की मांग पर हुए सत्ताइसवें धरने में अनिल जैन, विकास दुबे,सियोल जैन,नागेंद्र क़ुररिया,सुशील जैन,संतोष श्रीवास, आशीष पटेल,गुड्डू कतेहा,नत्थू पटेल,ए के शाही,जयप्रकाश तिवारी,राजभान मिश्रा,रामजी शुक्ला,पन्नालाल,रामलाल यादव,अनिल क़ुररिया,सुरेंद्र विश्वकर्मा,गंगाराम गुप्ता सहित अनेक सिहोरावासी मौजूद रहे।
Previous Post Next Post