Ticker

6/recent/ticker-posts

आग बुझाने के वाहन से लोगों की प्यास बुझाने का जतन

आग बुझाने के वाहन से लोगों की प्यास बुझाने का जतन

सिहोरा नगर पालिका क्षेत्र में जल संकट चरम सीमा पर : 2 दिन बाद भी नहीं पहुंचा हिरण नदी में बरगी दाईं तट नहर का पानी

सिहोरा

पिछले 4 से 5 सालों की बात की जाए तो इतने भीषण जल संकट से से हो रहा कभी नहीं गुजरा। पिछले तीन दिनों से नगर के 18 वार्ड के निवासियों के सामने पीने के पानी के लिए त्राहि-त्राहि मची है। हालात यह है कि सिहोरा नगर पालिका की जल की आपूर्ति करने वाले टैंकर कम पड़ने के कारण आग बुझाने वाली दमकल गाड़ी से लोगों की प्यास बुझाने की कोशिश चल रही है। फिर भी हालात सुधरने का नाम नहीं ले रहे। गुरुवार को लोग पानी की व्यवस्था के लिए हैंडपंप और दूसरे संसाधनों की तलाश में सुबह से जुट गए थे। 


वहीं दूसरी तरफ शहर के 90% हिस्से को जिस फिल्ट्रेशन प्लांट खितौला से जलापूर्ति होती है वहां के हिरन नदी घाट में अभी भी बरगी दाएं तट से छोड़ा गया पानी नहीं पहुंचा है।  सिहोरा नगर के झंडा बाजार, काल भैरव चौक, गोरी तिराहा, मनसकरा, ज्वालामुखी क्षेत्र सैयद बाबा की टोरिया, लख राम मोहल्ला, टंकी मोहल्ला सहित ऊपरी बसाहट के वार्डों में अभी भी पानी नहीं पहुंचने के कारण लोग इस गर्मी के मौसम में परेशान हो रहे हैं। शहर के लोगों का कहना है कि इस जल संकट को लेकर अधिकारियों ने पहले से आखिर तैयारी क्यों करके नहीं रखी थी। अधिकारियों की लापरवाही का परिणाम है कि करीब 50 से 7000 की आबादी वाला सेवरा नगरपालिका क्षेत्र बूंद बूंद पानी के लिए परेशान है। जिन लोगों के घर में खुद का बोर्ड है वह तो ठीक है लेकिन अधिकतर आबादी नगरपालिका के नलों पर आश्रित हैंडपंपों की स्थिति इतनी खराब है कि वह पानी की जगह हवा उबल रहे हैं।

विपक्ष शनिवार को बड़े आंदोलन की तैयारी में

जल संकट को लेकर कांग्रेस पार्टी ने बुधवार को 24 घंटे के अंदर समस्या के निदान को लेकर प्रशासन को चेतावनी दी थी लेकिन अभी भी जल संकट बरकरार है। शनिवार को कांग्रेस पार्टी जल संकट को लेकर नगर पालिका और एसडीएम कार्यालय का घेराव करने की तैयारी में है।