Ticker

6/recent/ticker-posts

क्रूस के बिना मसीही जीवन कुछ भी नहीं है, क्रूस अर्थ ही मसीही जीवन है

क्रूस के बिना मसीही जीवन कुछ भी नहीं है, क्रूस अर्थ ही मसीही जीवन है

गुड फ्राइडे पर मारथोमा चर्च में हुई विशेष  आराधना, प्रभु यीशु मसीह के दिए गए वचनों के संदेश

सिहोरा 

मारथोमा चर्च सिहोरा में प्रभु यीशु मसीह के क्रूसीकरण के दिन गुड फ्राइडे पर याद करते हुए सुबह 8.30 बजे विशेष आराधना की गई। सिहोरा कलीसिया के पदाधिकारी दशरमन, बहोरीबंद, गोसलपुर दर्शनी आश्रम के विश्वासी शामिल रहे। गुड फ्राइडे की आराधना में कलवरी के क्रूस से प्रभु यीशु मसीह के दिए गए वचनों के संदेश दिए गए। प्रभु यीशु मसीह ने मानव जाति के पापों को छुपाने के लिए हमारे पापों के कारण क्रूस की असहनीय वेदना को सहकर अपने आप को हमारे लिए बलिदान कर दिया। 
  क्रूस के बिना मसीही जीवन कुछ भी नहीं है। क्रूस अर्थ ही मसीही जीवन है। क्रूस के मार्ग में दर्द, पीड़ा और वेदना है, जिसके द्वारा हम परमेश्वर की सेवा करते हैं। क्रूस हमारे सांसारिक जीवन को मिटाकर ईश्वर की दृष्टि में सार्थक बना देता है। क्रूस हमें पुनरुत्थान की ओर ले जाता है जहां प्रभु येशु मसीह है तीन दिन बाद जी उठते हैं। गुड फ्राइडे के कार्यक्रम में रेव्ह.मैथ्यू के चंडी आचार्य सीपी आश्रम, अनि जॉर्ज सचिव एमटीसी सिहोरा, कमल सिंह नायक, आशीष मुआनी, युहान मिश्रा, माखन गोले, भोला मरावी, रतीराम, दीपक आदि उपस्थित रहे।