Ticker

6/recent/ticker-posts

14 ग्राम की सैकड़ो एकड़ ग्रीष्मकालीन फसलों व उड़द,मूंग की सिंचाई को पहुंचा नहर का पानीनहर से कुंड वितरिका में छोड़ा गया पानी

14 ग्राम की सैकड़ो एकड़ ग्रीष्मकालीन फसलों व उड़द,मूंग की सिंचाई को पहुंचा नहर का पानी
नहर से कुंड वितरिका में छोड़ा गया पानी
 
सिहोरा

ग्रीष्मकालीन फसलों के लिए पानी आवश्यकता को देखते हुए नर्मदा घाटी बरगी नहर व्याप वर्तन परियोजना के जल उपभोक्ता संस्था गांधीग्राम की कुंड वितरिका पिपरिया नहर में पानी छोड़ा गया ।जिससे वर्तमान में उड़द,मूंग व अन्य ग्रीष्मकालीन फसलों के लिए जरूरी पानी खेतो तक पहुँच गया। जिससे क्षेत्रीय किसानों ने राहत की सांस ली है। 

        जल उपभोक्ता  गांधीग्राम संस्था के अंतर्गत लगभग 14 ग्रामों  के किसानों को ग्रीष्मकालीन फसलों के लिए पानी की महती आवश्यकता थी। कुण्ड वितरिका पिपरिया में लगातार पानी छोड़ा जा रहा है। कुंड वितरिका से माइनर व सब माइनर में जरूरत अनुसार पानी पहुंचने लगेगा।
*इन ग्रामों में खेतो को मिला पानी--- जल उपभोक्ता संस्था गांधीग्राम की ग्राम बम्होरी,पिपरिया, देव नगर, कैलवास, उमरिया, धनगवां,कुकरई,चन्नौटा के खेतों में  जरूरी पानी समय पर पहुंच जाने से किसानों ने राहत महसूस की है।

किसानो ने राहत की सांस

उड़द,मूंग की फसल हेतु वर्तमान में पानी की आवश्यकता थी। गांधीग्राम के किसान लखन पटेल, धमकी के राम कुमार पांडे, दिनेश पांडे, बम्होरी के मथुरा तिवारी,महेंद्र पटेल, पिपरिया के राजकुमार विश्वकर्मा, बिरजू केवट,मिढ़ासन के  नरेश पटेल,पूरन कोल,पूरन असाटी,पथरई के सुरेश पांडेय, शहजपुरा के वीरेन्द्र पटेल, सुदामा पटेल,रजनीश पटेल, ताला के लक्ष्मी पटेल,कैलवास के ब्रह्मानंद पटेल आदि ने कहा है कि बहुत से किसान अब उड़द मूंग की बुवाई करेंगें वही बहुत से किसानों का कहना है कि खेतों को समय पर पानी मिल जाने से खुशी व्यक्त की है।किसानो का कहना है की खेतो में पानी आ जाने से उड़द,मूंग की फसल को पानी मिल सकेगा।