30 बटुकों ने धारण किया यज्ञोपवीत संस्कार ब्राह्मण समाज सिहोरा का दसवाँ आयोजन

30 बटुकों ने धारण किया यज्ञोपवीत संस्कार 
ब्राह्मण समाज सिहोरा का दसवाँ आयोजन
   सिहोरा

 ब्राह्मण समाज सिहोरा की इकाई ब्राह्मण समाज युवा मंडल सिहोरा के माता महाकाली मंदिर खितौला सिहोरा में हुए यज्ञोपवीत संस्कार कार्यक्रम में तीस ब्राह्मण बटुकों ने यज्ञोपवीत संस्कार धारण किया।इस संस्कार को आचार्य सुरेन्द्र दास जी महाराज देवरी वालो द्वारा सम्पन्न कराया गया।ब्राह्मण समाज का सिहोरा में सम्पन्न होने वाला यह दसवाँ आयोजन था।

 लिए अनेक संकल्प 

ब्राह्मण बटुकों ने यज्ञोपवीत संस्कार धारण करते हुए अनेक संकल्प लिए।उन्होंने माता पिता गुरु की आज्ञा का पालन करने,हरे पेड़ो को न काटने,नग्न होकर न नहाने,नदी में स्नान से पूर्व उन्हें प्रणाम करने जैसे अनेक संकल्प लिए।

  बटुको लिया गायत्री मंत्र

 यज्ञोपवीत धारण करने के दौरान आचार्य सुरेंद्र दास जी महाराज द्वारा प्रत्येक बटुक को गायत्री मंत्र से मंत्रित किया गया।विधान के अनुसार जब आचार्य बटुक के कानों में गायत्री देते है तो घंटे बजते रहे।यज्ञोपवीत संस्कार धारण करने वाले प्रत्येक बटुक को दिन में तीन बार गायत्री मंत्र के मौन मनन का विधान है।

      अनेक घरो में भिक्षा मांगी

 यज्ञोपवीत संस्कार के अंत मे बैड बाजो के साथ सभी तीस बटुकों ने खितौला के ग्यारह घरों में भिक्षा मांगी।नगर की माताओं ने विप्र बटुकों के दरवाजे पर आकर "भिक्षाम देहि" के स्वर को सुनते ही बाहर आकर कुछ न कुछ भिक्षा प्रदान की।मान्यता के अनुसार बिना भिक्षा विधान के यज्ञोपवीत संस्कार पूर्ण नही माना जाता।
             आज के इस आयोजन में सिहोरा, खितौला,जबलपुर, बड़खेरा,झिंन्ना पिपरिया, मझौली के बटुकों ने यज्ञोपवीत धारण किया।सफल बनाने में समाज के अध्यक्ष राकेश पाठक,नंदकुमार परौहा, महामंत्री प्रवीण कुररिया,नरेन्द्र त्रिपाठी,रवि दुबे,नवनीत शुक्ला,सतीश मिश्रा,राजेन्द्र दुबे,आलोक पांडे,सतीश गर्ग, आदित्य दुबे सहित अनेक विप्रो का योगदान रहा।

Previous Post Next Post