ग्राम पंचायत उदासीन, कई वार्डों में जलसंकट सिहोरा

ग्राम पंचायत उदासीन, कई वार्डों में जलसंकट
सिहोरा

ग्राम पंचायत गांधीग्राम की  उदासीनता के चलते नगर में अब जल संकट गहराने लगा है। ग्राम पंचायत की लचर व्यवस्था के कारण यह स्थिति उत्पन्न होने लगी है। ग्राम पंचायत प्रशासन भीषण गर्मी में पेयजल की समस्या को गंभीरता से नहीं ले रहा है, जिसके चलते नागरिक परेशान हो रहे हैं।
ग्राम के वार्ड क्रमांक 1 व 2 के वाशिंदों ने बताया कि गांधीग्राम में ग्रामीण जलसंकट से जूझ रहे हैं। इस भीषण गर्मी में ग्रामीणों को दूर-दूर से पानी ढोकर लाना पड़ रहा है। सुबह से ही पानी की तलाश में वे यहां-वहां भटकते हैं। वहीं वार्ड की नल-जल योजना बंद होने की वजह से ग्रामीण पानी के लिए परेशान हो रहे हैं। शासन ने ग्रामीणों को पेयजल सप्लाई के लिए नल-जल योजनाओं को संचालित करने के लिए लाखों रुपए पानी में बहा दिए। लेकिन नलों में पानी नहीं आया। ऐसी स्थिति में ग्रामीण अन्य निजी स्रोतों से अपनी जरूरतें पूरी कर रहे हैं। बंद नल-जल योजना को दुरुस्त करने के लिए पीएचई विभाग द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। 
थ्री फेस न मिलने, पाइप लाइन क्षतिग्रस्त होने, पंचायत द्वारा न चलाने व अन्य कई कारणों से कई वार्डों की नल जल योजना नियमित रूप से न चलने से लोगो की परेशानियों में क्रमशः इजाफा हो रहा है।
गांधीग्राम के वार्ड नंबर 1 एवं दो का जल संकट दिन-ब-दिन गहराता ही जा रही है। गांधीग्राम के वार्ड नंबर 1 एवं 2 के आदिवासी मोहल्लों में जल संकट दिन-ब-दिन गहराता ही जा रहा है। विदित हो कि पूर्व में भी उक्त मोहल्ले के निवासियों ने जल संकट एवं हैंडपंप के पानी से कीड़े आने की शिकायत 2 माह पूर्व की थी जिस पर अभी तक पंचायत ने कोई सकारात्मक पहल नहीं की है। जिससे क्षेत्र में दिन-ब-दिन जल संकट गहराता ही जा रहा है। लोगों को पीने की पानी की समस्या इस कदर सता रही है कि 90 दिन में ठीक से काम कर पा रहे रात् में ही में विश्राम कर पा रहे हैं। खानापूर्ति के नाम पर आज ही पाइपलाइन डालकर छोड़ दी है।वार्ड के गोरेलाल कोल राहुल कोल दिनेश कोल लक्ष्मण चंद्र सिकदर मुन्ना साहू लोचन बेन मिलन बर्मन गया बाई रन्नो कोल गंगाबाई विश्वकर्मा आदि ने शीघ्र जल समस्या के निवारण की मांग की है।
सरकार दावा कर रही पर स्थिति कुछ और--ग्रामीणों के अनुसार नल जल योजना पूरी होने का दावा तो किया जाता है पर जमीनी हकीकत कुछ और ही समाने नजर आ रही है। पेयजल को लेकर ग्रामीण सरपंच-सचिव से कई बार समस्या का समाधान करने की बात कर चुके हैं। लेकिन ग्रामीणों की मांग को तवज्जो नहीं दिया जा रहा है। इसके चलते ग्रामीणों को पेयजल के लिए कुएं  और हैंडपंप पर निर्भर बने हुए हैं।
पानी को भटकने को मजबूर ग्रामीण---गांव में पानी सप्लाई सिस्टम बीते सप्ताह भर से खराब है। इस वजह से ग्रामीण एक सप्ताह से पानी की तलाश में जगह-जगह भटकने को मजबूर हुए हैं।
Previous Post Next Post