गांधीग्राम में हो रहा यहां बालविवाह, पहुच गई महिला बाल विकास विभाग की टीम

गांधीग्राम में हो रहा यहां बालविवाह, पहुच गई महिला बाल विकास विभाग की टीम

समझाइश पर माने परिजन : 6 माह कम थी किशोरी की उम्र, लिखित में दी सहमति 

सिहोरा 

गांधीग्राम में सोमवार को काष्टागार के पास बाल विवाह की होने की सूचना पर महिला बाल विकास विभाग और गोसलपुर थाने की पुलिस मौके पर पहुंची। जानकारी लेने पर पता चला की जिस लड़की की शादी होने वाली है इसकी उम्र सरकार द्वारा निर्धारित शादी की उम्र से 6 माह कम है। महिला एवं बाल विकास विभाग की सुपरवाइजर और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता ने परिजनों को समझाया कि यदि वे बाल विवाह करते हैं 2 वर्ष की सजा और एक लाख जुर्माना भुगतना पड़ेगा। काफी समझाइश के बाद आखिरकार परिजन बाल विवाह नहीं करने पर सहमत हो गए और उन्होंने इसकी एक लिखित सहमति पत्र महिला बाल विकास विभाग की टीम को दिया। 

ये है पूरा मामला 

जानकारी के मुताबिक गांधीग्राम के पास चौधरी परिवार में राजकुमार चौधरी की बेटी मनीषा का विवाह घंसौर में तय हुआ था। महिला बाल विकास विभाग की टीम को इस बात की भनक लग गई कि जिस लड़की का विवाह हो रहा है उसकी उम्र 18 वर्ष से कम है। जानकारी लगते ही सुपरवाइजर स्वाति खरे आंगनबाड़ी कार्यकर्ता नीतू बघेल, प्रभा मिश्रा, प्रीति चौरसिया, नीलम मेहरा और गंगा कोरी शादी वाले घर में पहुंची। उन्होंने मनीषा की डेट ऑफ बर्थ वाली मार्कशीट मंगवाई। जिसमें मनीषा की उम्र 17 वर्ष 6 माह और 12 दिन सामने आई। 

समझाइश के बाद माने परिजन

मार्कशीट में मनीषा की उम्र सरकार द्वारा निर्धारित 18 वर्ष से कम होने पर महिला बाल विकास विभाग की सुपरवाइजर और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने परिजनों और रिश्तेदारों को समझाया। यदि वह बाल विवाह करती है तो वह कानून के दायरे में आ जाएंगी और उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज होगा जिस पर परिजन शादी छह माह बाद तय करने के लिए सहमत हो गए और उन्होंने एक लिखित सहमति पत्र विभाग की टीम को दिया।
Previous Post Next Post