बरसात से हाईवे के चौराहों पर खतरा बढ़ासाइड रोड पर खाइयों रूपी गहरे गढ्ढों में भरा पानी

बरसात से हाईवे के चौराहों पर खतरा बढ़ा
साइड रोड पर खाइयों रूपी गहरे गढ्ढों में भरा पानी

सिहोरा

  दोपहर के बाद व शाम के समय हो रही बारिश ने राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के दावों की पोल खोल दी है। शुक्रवार को दोपहर व शाम के समय हुई तेज बरसात के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 30 जबलपुर-सिहोरा सड़क मार्ग पर गांधीग्राम से रामपुर  नर्सरी के पास बरनु पहुंच मार्ग के लिए हाईवे को मिलाने वाली साइड रोड पर बरसाती पानी का जमाव हो गया है,इसी प्रकार हाइवे पर बघेला नाला  पुल मोहतरा सड़क पर पानी भरा हुआ है। हाईवे फोरलेन सड़क के चौराहों के  गड्ढों में भरे पानी के कारण पूरे दिन वाहनों के आवागमन में असुविधा का सामना करना पड़ रहा है।इस कारण वाहन चालकों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा एनएचएआई द्वारा पानी निकासी के इंतजाम भी नजर नहीं आए। जगह जगह पानी भर गया है।
दरअसल, राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने हाईवे पर बरसाती नालों का निर्माण तो किया है, किन्तु हाईवे के तिराहों व चौराहों पर  लेवल ठीक नहीं होने से पानी का निकास नहीं हो पा रहा है जिससे एन एच 30 जबलपुर सिहोरा फोरलेन सड़क मार्ग के गांधीग्राम-धमकी-बम्होरी चौराहे, बरनू तिराहे पर लम्बे,चौड़े व खाई रूपी गहरे गढ्ढों में बरसाती पानी भर गया है।राष्ट्रीय इससे राजमार्ग पर मुख्य तिराहों व चौराहों पर जगह-जगह जलभराव की समस्या के चलते अनचाही दुर्घटनाओं का अंदेशा बना हुआ है। एनएचएआई को मानसून आने से पूर्व गढ्ढों की मरम्मत,समतलीकरण करके ठीक करना चाहिए था परन्तु वर्तमान में  इन स्थानों पर स्थिति बद से बदतर हो गई है इसके  हाईवे के विभिन्न चौराहों पर एनएचएआई ने पिछले दिनों सामग्री डलवाकर गड्ढों को भरवाया था। बारिश में फिर से गड्ढे बन गए।

भारवाहक वाहनों का दबाव

गांधीग्राम स्थित  हाईवे के बम्होरी-धमकी-गांधीग्राम चौराहे से खनिज भारयुक्त सैकड़ों हाइवा, डम्फर, दसचक्का, ट्राला आदि वाहनों की आवाजाही लगी रहती है।ये वाहन गांधीग्राम, रामपुर, धमकी,बम्होरी स्थित माईंस से ब्लूडस्ट, मेगनीज, आयरन ओर दिनरात परिवहन करते हैं।क्षमता से अधिक भारयुक्त वाहनों ने इन चौराहों का दम निकाल दिया है।
मूकदर्शक बना है प्रशासन--माइंस मालिकों को मनचाहा भारयुक्त माल ढोना करने,नियमों को बलाये ताक रखकर परिवहन करने की आजादी दे दी है।भारवाहक वाहनों से गीला खनिज गिराकर सड़कों को बर्बाद करना इसके लिए सामान्य बात है,लोग कहते है कि इन सब अव्यवस्थाओं,खामियों को देखने के लिए प्रशासन तंत्र नही है क्या।लोग यह भी कहते हैं कि बिना शिकायत के कार्यवाही क्यों नहीं होती।
चौराहे पर सड़क जर्जर हो चुकी है। यहां आधे फीट तक गहरे गड्ढे हैं। पानी जमा हो जाने से ये गड्ढे वाहन चालकों को दिखाई नहीं देते थे। इस कारण कई मोटर साइकिल सवार यहां हादसे का शिकार हो जाते हैं।यहां पर अब तक बहुत से लोगों को गंभीर चोट  लगी है, बड़ी दुर्घटना भी घट चुकी है।
Previous Post Next Post