Wee Report - इस गांव की मिट्टी है इतनी खास, जो कोबरा के जहर को भी कर देती है बेअसर l

इस गांव की मिट्टी है इतनी खास, जो कोबरा के जहर को भी कर देती है बेअसर 

छत्तीसगढ़ । यूं तो सभी सांप जहरीले ही होते हैं लेकिन किंग कोबरा को ज्याादा ही खतरनाक माना जाता है। इसके काटने पर इंसान को बचा पाना काफी मुश्‍िकल होता है लेकिन छत्तीसगढ़ के इस गांव की मिट्टी से इसके जहर को कम किया जा सकता है।

आज छत्तीसगढ़ के जांजगीर जिले में इस मिट्टी को छूने के लिए बड़ी संख्यां में लोगों की भीड़ होती है।

आइए जानें गांव की इस अनोखी मिट्टी के बारे में…

जहर कम किया जाता

जी हां छत्तीसगढ़ के जांजगीर जिले के कैथा गांव की मिट्टी काफी ताकतवर मानी जाती है। यह खतरनाक जहरों से भी ज्याछदा खतरनाक मिट्टी है। इसका एक मात्र यह उदाहरण ही काफी है कि इस मिट्टी से किंग कोबरा तक का जहर कम किया जाता है। इसीलिए जिसे भी सर्प डसता है उसे ये मिट्टी खिलाने पर पूरी तरह से आराम मिल जाती है।

सांप ने वरदान दिया

नाग पंचमी के अवसर पर छत्तीसगढ़ के जांजगीर जिले के कैथा गांव में स्थित बिरतिया बाबा मंदिर में सुबह से ही श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ने लगी है. बाबा और नाग देवता की पूजा के लिए हजारों की तादाद में यहां पहुंचे श्रद्धालु हाथ में दूध, लाई नारियल, फूल अगरबत्ती लेकर कतार में अपनी बारी आने का इंतजार कर रहे हैं.

इस पूरी प्रथा के पीछे कैथा गांव के बारे में मान्यता है कि इस गांव पर नाग देवता का आशीर्वाद है और इस गांव की मिट्टी में इतनी ताकत है जिसे खिला देने मात्र से जहरीले से जहरीले सांप का जहर उतर जाता है.

किवदंतियों के मुताबिक, सदियों पहले यहां पर एक जमींदार ने एक सांप के प्राणों की रक्षा की थी। जिस पर सांप ने यह वरदान दिया था कि इस गांव की मिट्टी उसके जहर से ज्याएदा ताकतवर होगी। जिससे सांप के डसने पर भी इंसान के प्राण नहीं जाएंगे।

शक्तिय के लिए पूजी जाती

सबसे खास बात तो यह जिसे सांप ने काट लिया हो वह इस गांव की सरहद पार करते ही ठीक होने लगता है। आज तक इस गांव में बड़ी संख्यान में लोगों की जान बचाई जा चुकी है। ऐसे में इस कैथा गांव की मिट्टी अब अपनी शक्ति के लिए पूजी जाने लगी है। यहां बने बिरतिया बाबा मंदिर के नाग देवता की पूजा नागपंचमी पर बड़ी धूमधाम से होती है।

 

 


Previous Post Next Post