Weenews- सर्प के काटने के बाद दर्द के मारे चींख रहा था बच्चा, डॉक्टर ने इलाज करने से किया इंकार, मानवता शर्मसार !

बिलासपुर: डॉक्टर को भगवान का दर्जा दिया जाता है, लेकिन कई बार ये भगवान भी अपनी जिम्मेदारी भूल जाते हैं।  ऐसा ही घटना  बिलासपुर के सिम्स मेडिकल कालेज में देखने को मिली ।  जहां सर्पदंश के शिकार  तड़पते बच्चे को डॉक्टर ने न केवल एडमिट करने से मना किया। बल्कि परिजनों की लाख दुहाई के बाद भी डॉक्टर पीड़ित बच्चे का इलाज नहीं करने पर अड़ा रहा आखिरकार मीडिया के में डॉक्टर ने उसका इलाज शुरु किया और अब उसका उपचार जारी है। 

दर्द के चलते बच्चे के मुंह से निकल रही थी चींख, डॉक्टर ने अपने कान किए बंद

बिलासपुर संभाग का सबसे बड़ा अस्पताल अपने कारनामों की वजह से हमेशा सुर्खियों में रहता है। इस बार सिम्स के डॉक्टर का कारनामा सामने आया है। ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर अंशुल ने सर्प दंश से पीड़ित हेमू नगर निवासी 14 साल के जिडेंन मरे को एडमिट करने से इनकार दिया। दर्द से तड़प रहे बच्चे के परिजन डॉक्टर से इलाज के लिए दुहाई करते रहे, लेकिन डॉक्टर का दिल नही पसीजा, और बच्चे को बिना चेक किए दूसरे अस्पताल में एडमिट करने का हवाला देने लगे।

मीडिया का कैमरा देख मन में जागा खौफ, तुरंत पर्चा भर इलाज में जुटा डॉक्टर

परिजनों की लाख मिन्नत के बाद डॉक्टर ने अपनी कुर्सी से उठकर एक बार भी बच्चे को देखना गंवारा नहीं किया. इस बीच सूचना मिलने पर मीडियाकर्मी हॉस्पिटल पहुंचे. डॉक्टर को भनक लगी कि उसकी सारी करतूत कैमरे में कैद हो रही है, तो उसने तत्काल बच्चे को एडमिट करने का फॉर्म भरना शुरू किया। फिलहाल, बच्चे को एडमिट कर उसका इलाज किया जा रहा है। इस दिल दहला देने वाली घटना ने मानवता को तो शर्मसार किया ही है साथ ही सरकारी अस्पताल की व्यवस्था और डॉक्टर पर भी कड़े सवाल खड़े किए है। 
Previous Post Next Post