बेटा-बहू से प्रताड़ित माता-पिता को खिलाया अपने घर का बना खाना बेटे के विरूद्ध दर्ज कराई एफआईआर

बेटा-बहू से प्रताड़ित माता-पिता को खिलाया अपने घर का बना खाना 
बेटे के विरूद्ध दर्ज कराई एफआईआर


सिहोरा

 एसडीएम सिहोरा आशीष पाण्डे ने मानवीयता की मिसाल पेश करते हुये उस वृद्ध दंपत्ति को अपने घर का बना खाना खिलाया जो बेटे-बहू की प्रताड़ना की वजह से तीन दिन से भूखे थे। 
 एसडीएम आशीष पाण्डे ने बताया कि ग्राम टिकुरी तहसील मझौली निवासी वृद्ध दंपत्ति बाबूलाल काछी एवं टन्टूबाई काछी जमीन जायदाद को लेकर आज बेटे-बहू की मारपीट से तंग आकर अनुविभागीय राजस्व अधिकारी कार्यालय सिहोरा पहुंचे थे। करीब 90 वर्ष के आसपास की उम्र के इन बुजुर्गों ने अपनी शिकायत प्रस्तुत करने हुये बताया कि बेटा-बहु आये दिन जमीन जायदाद को लेकर उनके साथ मारपीट करते है और गाली गलौचकर जान से मारने की धमकी भी देते हैं।
 बुजुर्ग दंपत्ति ने आवेदन में गुहार लगाई थी कि उन्हें बेटे-बहु की प्रताड़ना से बचाया जाये तथा उनकी जान की सुरक्षा के लिये उन पर कार्यवाही की जाये। एसडीएम सिहोरा ने बताया कि बुजुर्ग दंपत्ति ने अपनी शिकायत में बताया कि बेटे-बहू द्वारा दी जा रही जान से मारने की धमकी और मारपीट की शिकायत इन्द्राना पुलिस चौकी में भी की है। 

 श्री पाण्डे ने बताया कि सिहोरा आये इन बुजुर्गों की बातों को उन्होंने धैर्य पूर्वक सुना। इस दौरान उन्हें लगा कि दोनों बुजुर्ग भूखे है, इसलिये उन्होंने अपने लिये घर से आया खाया उन्हें खिलाया। शुरू में वृद्ध दंपत्ति ने संकोचवश मना किया। लेकिन जब उन्हें बताया गया कि वे सुबह घर से नाश्ता करके आये है तब उन्होंने भोजन को स्वीकार किया। बातों-बातों में बुजुर्गों ने बताया कि तीन दिनों से भूखें हैं। 
 एसडीएम सिहोरा के अनुसार वृद्ध दंपत्ति को प्रताड़ना और मारपीट से बचाने बेटे-बहु के खिलाफ मझौली थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है। उन्होंने बताया कि वृद्ध दंपत्ति की प्रताड़ना का यह मामला पूर्व में भी उनके पास आ चुका था। इस मामले में बेटे ने पिता के जीवित रहते फर्जी तरीके से फौती नामांतरण कर जमीन अपने नाम करा ली थी। जिसे बाद में निरस्त कर दिया गया था।
Previous Post Next Post