किसानों की आर्थिक उन्नति की सीढ़ी....एफपीओसंगठन से जुड़ने किसानों में दिख रहा उत्साह

किसानों की आर्थिक उन्नति की सीढ़ी....एफपीओ
संगठन से जुड़ने किसानों में दिख रहा उत्साह
तहसील में एफपीओ को मजबूत और सशक्त बनाने की कवायद


गोसलपुर

 किसानों की आय में वृद्धि करने के उद्देश्य से सिहोरा तहसील के अंतर्गत नाबार्ड विभाग के सहयोग से गठित किसान उत्पादक संगठन के संचालकों एवं क्षेत्रीय किसानों द्वारा गुरुवार को सिहोरा तहसील अंतर्गत धरमपुरा घोराकोनी जुझारी धरमपुरा गोसलपुर मानगांव हिरदेनगर कछपुरा सिलुवा प्रतापपुर टिकरिया रानीताल बंधा में एक तहसील एक उत्पाद के तहत चयनित सिंघाड़ा उत्पादन के लिए चयनित
फसल के बारे फायदे बताते हुए
कृषि विशेषज्ञ हरिशंकर तिवारी ने कहा की
केंद्र सरकार के द्वारा किसान उत्पादक संगठन की स्थापना की जा रही है जिससे देश के किसानों को मदद मिलेगी एफपीओ के रूप में छोटे और सीमांत किसानों के समूह के पास फसलों की बिक्री के लिए मोल भाव करने की ताकत मिलेगी
ज्ञात हो की एफपीओ बनाने का काम केंद्र की उस योजना का हिस्सा है जिसके तहत सरकार ने 5 साल में 6865 करोड रुपए के प्रावधान के साथ 10,000 एफपीओ बनाने का लक्ष्य रखा है  केंद्र सरकार की मंशा है की इससे किसानों की आय में वृद्धि होगी एवं जो किसान अनुबंध के जरिये खेती कर रहा है उसे एफपीओ से बड़ी मदद मिलेगी एफपीओ किसानों का एक ऐसा समूह होता है जो खेती किसानी से जुड़े काम को आगे बढ़ाने में मदद करता है इससे फसल का वाजिब भाव मिलना आसान हो जाता है
सिहोरा तहसील के अंतर्गत नाबार्ड विभाग के द्वारा गठित
माँ बीरासन फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी की सदस्यता के संबंध मे किसानों को सदस्यता दिलाई गई एवं एफपीओ के उद्देश्यों को समझाया गया साथ ही अन्य किसान हितैषी योजनाओं को बताया गया इस मौके पर हेमचंद असाटी  कृष्णप्रकाश पालीवाल अनिल चौधरी दीपक तिवारी विवेक तिवारी नरेंद्र साहू रामस्वरूप बर्मन प्रदीप तिवारी इंद्रकुमार पटेल बृजकिशोर यादव प्रमोद यादव नरेंद्र बर्मन रमेश बर्मन राहुल दुबे मनीष दहायत राजेश विश्वकर्मा शेख महबूब अलका शर्मा रम्मू काछी संतोष असाटी राकेश पाठक ऋतुराज दुबे विनोद असाटी सतीष काछी मनीष दहायत तुलसीराम पटेल पंचम पटेल महेश पटेल मथुरा यादव रामभुवन व किसान मौजूद थे
Previous Post Next Post